पूर्वांचल की वायरल वाली बीमारियों पर होगा रिसर्च:महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय ने ICMR-RMRC के साथ मिलाया हाथ

गोरखपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्वी उत्तर प्रदेश से लेकर पश्चिमी बिहार और नेपाल की तराई तक फैली विषाणु जनित बीमारियों को खत्म करने के लिए एक नई पहल शुरू की गई है। इसके लिए दो ख्यातिलब्ध संस्थानों के बीच गुरुवार को बड़ा और महत्वपूर्ण करार हुआ।

वायरस से होने वाले रोगों के वास्तविक कारणों का पता लगाने औी इन बीमारियों का निदान खोजने के लिए शोध, अनुसंधान को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए गोरखपुर के महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की क्षेत्रीय इकाई रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (RMRC) के साथ हाथ मिलाया है।

दोनों संस्थानों के बीच गुरुवार को MOU का आदान- प्रदान हुआ। MOU पर रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर के निदेशक डॉ रजनीकांत और महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के कुलपति मेजर जनरल डॉ अतुल वाजपेयी ने हस्ताक्षर किए।

दरअसल, पूर्वी उत्तर प्रदेश, नेपाल की तराई और पश्चिमी बिहार की करोडों की आबादी दशकों से वायरल वाली बीमारियों से जूझती रही है। इंसेफेलाइटिस, डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, हेपेटाइटिस जैसी बीमारियों यहां लंबे समय से फली हैं।

हालांकि, 2017 में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से किए गए समग्र सरकारी प्रयासों से इन बीमारियों का प्रभाव काफी हद तक नियंत्रण में है। खासकर सर्वाधिक कहर बरपाने वाली इंसेफेलाइटिस से होने वाली मौतों पर 95 फीसद से अधिक नियंत्रण पा लिया गया है।

गोरखपुर में स्थापित हुआ रिसर्च सेंटर
लेकिन इसपर पूरी तरह से अंकुश लगाने के लिए सीएम योगी के प्रयासों पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गोरखपुर में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की गोरखपुर में इकाई (रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर) स्थापित की है। इस सेंटर की स्थापना के बाद अब गंभीर बीमारियों के लिए मरीजों के नमूनों का परीक्षण और विश्लेषण अब गोरखपुर में ही होने लगा है।

लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी पर भी किया था रिसर्च
उधर, अपनी स्थापना के एक साल के भीतर ही महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय ने भी पूर्वी उत्तर प्रदेश की बीमारियों का मूल तलाशने को अपने स्तर पर अनुसंधान शुरू कर दिया है। पिछले दिनों गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय में भर्ती मरीजों पर केस स्टडी करते हुए इस विश्वविद्यालय ने लेप्टोस्पायरोसिस नामक बीमारी का पता लगाया।

RMRC के सहयोग से किए गए विश्वविद्यालय के अनुसंधान में पता चला था कि घातक बुखार के लक्षण वाली लेप्टोस्पायरोसिस बीमारी चूहों के यूरीन से फैलती है। महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के इस केस स्टडी की तारीफ एम्सए KGMU लखनऊ ने भी की है।

बढ़ेगा केस स्टडी का दायरा
महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय की इस केस स्टडी का यह दायरा ICMR-RMRC के साथ हुए MOU से बड़े पैमाने पर शोध के रूप में और विस्तृत हो जाएगा। MOU के तहत दोनों संस्थान विषाणु जनित रोगों के मूल कारणों का पता लगाने, उनसे बचाव और बीमारी होने पर इलाज की दिशा में मिलकर अनुसंधान काम करेंगे।

MOU के आदान प्रदान के अवसर पर ICMR-RMRC के निदेशक डॉ रजनीकांत ने कहा कि इस करार के होने से पूर्वी उत्तर प्रदेश की बीमारियों के जड़ पर चोट लगने की रफ्तार और तेज होगी।

उच्च शिक्षा, रिसर्च, और फैकल्टी को होगा फायदा
इस आपसी समझौते से उच्च शिक्षा, रिसर्च, फैकल्टी के आदान प्रदान से दोनों संस्थाएं लाभान्वित होंगी। उच्च डिग्री, अनुसंधान, व्याख्यान, प्रशिक्षण और चर्चा के लिए संकाय छात्र, शोधकर्ता का आदान-प्रदान, अध्ययन क्षमता निर्माण कार्यक्रम, स्नातक, स्नातकोत्तर, PHD थीसिस और शोध प्रबंधों के पर्यवेक्षण के लिए संकाय सदस्यों के बीच सहयोग, संयुक्त पाठ्यक्रमों, प्रशिक्षण कार्यक्रमों, कार्यशालाओं, सम्मेलनों, संगोष्ठियों और वेबिनार का आयोजन, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में अनुसंधान और प्रकाशन, दोनों संस्थानों में संकाय सदस्यों शोधकर्ताओं, वैज्ञानिकों के बीच सहयोग आदि इस एमओयू का हिस्सा है।