गोरखपुर व्यापारी हत्याकांड...पुलिस पर दोषियों को बचाने का आरोप:मृतक की पत्नी बोलीं- कानपुर ट्रांसफर कराएंगे केस, गोरखपुर पुलिस पर भरोसा नहीं, कार्रवाई न होने तक अंतिम संस्कार से इनकार

कानपुर/गोरखपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक मनीष की पत्नी मीनाक्षी। - Dainik Bhaskar
मृतक मनीष की पत्नी मीनाक्षी।

गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से हुई कानपुर के व्यापारी की हत्या के बाद से उनकी पत्नी मीनाक्षी गुप्ता अकेले ही पूरे सिस्टम से मुकाबला कर रही हैं। सुबह 8.30 बजे मृतक व्यापारी का शव कानपुर उनके घर पहुंचा। लेकिन, परिवार ने अब तक इस मामले में एक भी दोषी पुलिसकर्मी की गिरफ्तारी न होने के विरोध में अंतिम संस्कार करने से इनकार दिया है।

सरकार की छवि भी धूमिल कर रहा पुलिस प्रशासन
मृतक मनीष की पत्नी का कहना है कि वह पति की हत्या का केस गोरखपुर से कानपुर ट्रांसफर कराएंगी। उन्होंने कहा कि वैसे भी केस के लिए बार-बार मुझे गोरखपुर के चक्कर काटने पड़ेंगे। उन्होंने आगे कहा कि घटना के बाद से ही गोरखपुर के पुलिस अधिकारी दोषी कर्मियों को बचाने में लगे हुए हैं। अधिकारी हत्या को हादसा बता रहे हैं।

गोरखपुर में पुलिस ने युवक को पीट- पीटकर मार डाला

मनीष गुप्ता की पत्नी और बेटा।
मनीष गुप्ता की पत्नी और बेटा।

मीनाक्षी ने आरोप लगाया है कि पुलिस अधिकारी यूपी सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि को भी धूमिल करने में लगे हैं, ऐसे में उन्हें गोरखपुर की पुलिस पर जरा भी भरोसा नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग करते हुए कहा कि अब तक एक भी दोषी पुलिस वाले पर कार्रवाई नहीं की गई है।

उनके मुताबिक मुकदमा भी खुद सीएम की पहल पर दर्ज किया गया है। इसमें पुलिस व प्रशासन ने खुद से कुछ भी नहीं किया। जब तक दोषियों की गिरफ्तारी नहीं होती, वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देंगी।

मृतक मनीष गुप्ता।
मृतक मनीष गुप्ता।

राजनैतिक मुदृा बन गया मनीष की हत्या
मनीष के परिवार वालों की यह भी मांग है कि मनीष की पत्नी मीनाक्षी को सरकारी नौकरी दी जाए। उनके 4 साल के मासूम बेटे के पालन-पोषण का जिम्मा भी सरकार उठाए। इसके अलावा दोषी पुलिस कर्मियों की तत्काल गिरफ्तारी और सीएम योगी आदित्यनाथ के मौके पर आएं। इसके बाद ही वह अंतिम संस्कार करेंगे। उधर, कानपुर में इस मामले ने बड़ा राजनैतिक रुप अख्तियार कर लिया है। भाजपा के साथ ही कांग्रेस, सपा और बसपा नेताओं ने मृतक के घर पर डेरा डाल रखा है।

सोशल मीडिया पर भी ट्रेंड होने लगा मामला
सोशल मीडिया पर भी यह मामला अब काफी चर्चित हो गया है। एक दिन पहले बनाए गए मीनाक्षी के ट्वीटर अकाउंट पर तेजी से फॉलोअर्स बढ़ रहे हैं। वहीं, मनीष की मौत पर इंसाफ की मांग को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट तेजी से वायरल हो रहे हैं। ऐसे में यह मामला अब सरकारी महकमे के माथे पर बल डालने लगा है।

केके राणा बनाए गए इंस्पेक्टर रामगढ़ताल
गोरखपुर के रामगढ़ताल थाने के इंस्पेक्टर जेएन सिंह को घटना के बाद सस्पेंड कर दिया गया है। मंगलवार देर रात केके राणा को रामगढ़ताल थाने का नया प्रभारी नियुक्त किया गया है। केके राणा अभी हाल के दिनों में कुशीनगर से ट्रांसफर होकर गोरखपुर पुलिस लाइन में थे।

खबरें और भी हैं...