पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संस्कार का "अंतिम संस्कार'':गांव के श्मशान में रोज जल रहे 50 से ज्यादा शव, कोरोना फैलने के डर से ग्रामीणों ने श्मशान मैनेजर को ही पीट डाला

देवरिया3 महीने पहले
मौतों की वजह से लोगों पर उसका ड�

कोरोना से हो रही मौतों की वजह से लोगों पर उसका डर हावी होता जा रहा है। गांवों में लोग अब संस्कार का भी विरोध करने लगे हैं। एसा ही एक वाकया देवरिया में देखने को मिला। जहां गांव वालों ने बगल के श्मशान पर हमला बोल दिया। जिसमें श्मशान के मैनेजर को लाठी डंडों से पीटा गया। दरअसल, गांव वाले डरे हुए हैं कि कहीं इतने शव जलने से गांव में कोरोना न फ़ैल जाए।

जानकारी के अनुसार, देवरिया के बरहज थाना क्षेत्र के गौरा कटइलवा मुक्ति धाम पर रोजाना की तरह शवों का अंतिम संस्कार हो रहा था। कुछ शव प्लेटफ़ॉर्म पर जल रहे थे तो कई नदी किनारे घाट पर जल रहे थे। मुक्तिधाम के अध्यक्ष जयप्रकाश बताते हैं कि कोविड काल में रोजाना यहां 50 से 60 शव जलाये जा रहे हैं।

सुबह से शाम तक गांव के आसपास का इलाका धुएं में लिपटा होता है। जिससे नाराज होकर बगल के गांव कटइलवा के 10 से 12 लड़के यहां आये और हमारे मैनेजर श्रीनिवास को मारने पीटने लगे। यही नहीं लड़कों ने लाठी डंडों से भी पिटाई की। किसी तरह बगल के गांव गौरा के लोगों ने मैनेजर को बचाया।

गांव में शवों को अंतिम संस्कार करने पहुंचे लोग।
गांव में शवों को अंतिम संस्कार करने पहुंचे लोग।

उचित स्थान पर नहीं जलाये जा रहे हैं शव

वहीं गांव वालों का आरोप है कि शव के लिए मुक्तिधाम में उचित व्यवस्था बनी हुई है। लेकिन कोविड के शव भी बिना प्रोटोकॉल के इधर उधर जलाये जा रहे हैं। जिससे गांव में भी कोरोना फैलने का डर है। वहीँ मुक्तिधाम के अध्यक्ष जय प्रकाश मिश्र का कहना है कि जो शव जलाने आते हैं उनको सरकार की गाइडलाइन बताई जाती है। संस्था की ओर से सभी प्रोटोकाल पूरे किये जाते हैं। रही बात उग्र गाँव वालों की तो शवों की संख्या ज्यादा होने से घाटों पर शव जलाये जा रहे है और गांव वाले वहां शौच के लिए आते हैं। अब वह खुले में शौच कर नहीं पा रहे हैं। इस वजह से वह मारपीट कर रहे हैं।

पुलिस करे हमारी सुरक्षा

वहीं पीड़ित मैनेजर श्री निवास का कहना है कि अगर मुझे कुछ लोग बचाते नहीं तो उग्र युवक हमें मार ही देते। श्रीनिवास ने मांग की है कि मुक्तिधाम पर पुलिस लगायी जाये। जब तक सुरक्षा की व्यवस्था नहीं होगी तब तक हम काम नहीं करेंगे। वहीं इस पूरे मामले पर एएसपी राजेश कुमार सोनकर का कहना है कि मामले की सूचना मिली है। विधिक कार्रवाई की जा रही है।