कोविड वैक्सीनेशन की दूसरी डोज को लेकर बड़ी लापरवाही:गोरखपुर में 6.40 लाख से अधिक लोगों ने नहीं लगवाई दूसरी डोज, इनमें 41 हजार से अधिक बच्चे भी शामिल

गोरखपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक ओर देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं तो दूसरी ओर गोरखपुर में कोविड वैक्सीनेशन की दूसरी डोज लगावाने को लेकर लोगों में बड़ी लापरवाही देखने को मिल रही है। गोरखपुर जिले में 64,0558 लोगों ने समय पूरा हो जाने के बाद भी दूसरी डोज नहीं लगवाई है। इसमें 41 हजार से अधिक बच्चे और किशोर (12 से 14 वर्ष) भी शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि दूसरी डोज लगवाए बिना सुरक्षा चक्र पूरा नहीं होता। इसलिए जिन लोगों का समय पूरा हो चुका है, वे बूथों पर आकर टीका लगवा लें।

गोरखपुर में दूसरी डोज का हाल
दरअसल, गोरखपुर जिले में 16 जनवरी 2021 को कोविड टीकाकरण अभियान शुरू हुआ। अब तक 35,60,099 लोगों को पहली डोज लगाई जा चुकी है। इसमें 6.40 लाख लोग समय पूरा होने के बाद भी दूसरी डोज नहीं लगवाए हैं। 12 से 14 वर्ष के बच्चों-किशोरों का टीकाकरण पिछले 16 मार्च को शुरू हुआ था। उन्हें कोर्बेवैक्स वैक्सीन लगाई जा रही है।

41,871 बच्चों-किशोरों का समय पूरा हाे चुका है लेकिन वे अभी दूसरी डोज नहीं लगवाए हैं। 4,94,667 लोग कोविशील्ड और 1,04,020 लोग कोवैक्सीन की दूसरी डोज से वंचित हैं। स्वास्थ्य विभाग ने आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से गांवों में जागरूकता अभियान शुरू किया है। लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसके बावजूद लोग आगे नहीं आ रहे हैं।

जानें, दूसरी डोज का समय

  • कोविशील्ड- 84 दिन
  • कोवैक्सीन- 28 दिन
  • कोर्बेवैक्स- 28 दिन

सिर्फ 15 % लोगों ने ली सतर्कता डोज
ऐसा ही कुछ हाल बुस्टर डोज यानी कि सतर्कता डोज का भी देखने को मिल रहा है। सतर्कता डोज लगवाने में भी लोग रुचि नहीं दिखा रहे हैं। 4,97,926 लोगों के सापेक्ष अभी तक 74,948 लोगों को ही यह डोज लगाई जा सकी। इसमें सर्वाधिक स्वास्थ्य कर्मी और अग्रिम पंक्ति कार्यकर्ता हैं। आम नागरिकों में 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की संख्या 21,235 व 18 से 59 वर्ष के बीच के लोगों की संख्या 22,87 है।

घर- घर जाकर टीका लगाएगी टीम
गोरखपुर के सीएमओ डॉ. आशुतोष कुमार दूबे का कहना है कि विभाग की ओर से टीकाकरण लगातार जारी है। गांवों में हमारी टीमें लोगों को इसके लिए प्रेरित भी कर रही हैं। पहली डोज में हम लोग 102 प्रतिशत टीकाकरण कर चुके हैं। ज्यादातर लोगों को दूसरी डोज भी लग चुकी है, लेकिन कुछ लोग आगे नहीं आ रहे हैं। आशा कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया गया है कि जिन्हें दूसरी डोज नहीं लगी है, उनकी सूची बनाएं। उसके आधार पर उनके गांव में टीम भेजकर टीकाकरण कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...