मीनाक्षी बोलीं- योगी जी...मेरे बेटे को अब कौन पालेगा?:मनीष की पत्नी से नहीं मिले पुलिस अफसर, होटल के कमरे से खून कराया साफ, CCTV की हार्डडिस्क भी उठा ले गई पुलिस

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घटना के बाद ही होटल कृष्णा पैलेस को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। - Dainik Bhaskar
घटना के बाद ही होटल कृष्णा पैलेस को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री जी बताएं...अब मेरे बच्चे को कौन पालेगा? उसका भरण-पोषण कैसे होगा? रो-रो कर जब मीनाक्षी जब यह कह रही थीं, तो वहां मौजूद हर शख्स की आंखें भर आईं। पिता और ससुर के साथ गोरखपुर पहुंची मृतक मनीष की पत्नी मीनाक्षी अपने 4 साल के मासूम बेटे को लेकर दर-दर भटक रही हैं।

कानपुर से दोस्तों संग घूमने और एक बिजनेस मीटिंग करने गोरखपुर आए मनीष गुप्ता की पुलिस की पिटाई से मौत के 18 घंटे बीत चुके हैं। लेकिन मृतक के परिवार से मिलना किसी भी पुलिस अधिकारी ने जरूरी नहीं समझा। उधर, मनीष के शव पोस्टमार्टम देर शाम शुरू हो गया।

गोरखपुर पुलिस ने युवक को पीट-पीटकर मार डाला

अखिलेश यादव और कांग्रेस नेताओं ने मनीष की मौत पर सरकार पर हमला बोला है।
अखिलेश यादव और कांग्रेस नेताओं ने मनीष की मौत पर सरकार पर हमला बोला है।

विपक्ष ने साधा निशाना
अब यह मामला राजनीतिक रूप लेने लगा है। समाजवार्दी पार्टी और कांग्रेस नेताओं ने मनीष की मौत पर सरकार पर हमला बोला है। विपक्ष ने कहा है कि अपराधी नहीं, बल्कि आम आदमी को पुलिस अब निशाना बना रही है। अखिलेश यादव ने भी मनीष की हत्या को लेकर ट्वीट किया है। उधर, मीनाक्षी दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज कराने की मांग पर अड़ी हैं। जबकि पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट और जांच के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

गोरखपुर पहुंची मनीष की पत्नी मीनाक्षी

मंगलवार की शाम मीनाक्षी अपने परिवार संग होटल कृष्णा पैलेस के रूम नंबर 512 में पहुंची।
मंगलवार की शाम मीनाक्षी अपने परिवार संग होटल कृष्णा पैलेस के रूम नंबर 512 में पहुंची।

CCTV हार्डडिस्क भी उठा ले गई पुलिस मंगलवार शाम मीनाक्षी अपने परिवार के साथ होटल कृष्णा पैलेस के रूम नंबर 512 पहुंची। जहां उनके पति दोस्तों संग ठहरे थे। हैरानी वाली बात यह है कि उनके पहुंचने से पहले ही होटल के कमरे से खून के दाग साफ किए जा चुके थे। मृतक मनीष का चप्पल, पर्स और मोबाइल भी रूम से गायब है। आरोप है कि होटल में लगे सीसीटीवी कैमरे की हार्डडिस्क पुलिस उठा ले गई है, ताकि राज खुलने न पाए।

मृतक मनीष के दोस्त ने कहा- पुलिस ने होटल के हाउस कीपिंग स्टॉफ से खून के दाग साफ कराए।
मृतक मनीष के दोस्त ने कहा- पुलिस ने होटल के हाउस कीपिंग स्टॉफ से खून के दाग साफ कराए।

घटना के बाद ही साफ करा दिए गए खून के धब्बे
मृतक के दोस्त हरदीप सिंह का आरोप है कि पुलिस रात में पिटाई के बाद उन्हें नीचे लेकर चली आई थी। जबकि ऊपर मनीष की पिटाई जारी थी। थोड़ी देर बाद पुलिस वाले घायल मनीष को लिफ्ट से लेकर नीचे आए और अस्पताल जाने की बात कहने लगे। हरदीप ने बताया कि नंगे पैर होने की वजह से वह चप्पल पहनने वापस ऊपर गए। उस समय पुलिस होटल के हाउस कीपिंग स्टॉफ से खून के दाग साफ करा रही थी। आरोप है कि पूछने पर उन्होंने गाली- गलौज की।

होटल कर्मचारियों पर भी आरोप
एक अन्य दोस्त चंदन सैनी ने भी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं। आरोप है कि इस घटना में होटल के कर्मचारियों की भी मिलीभगत है। रामगढ़ ताल पुलिस की अपने क्षेत्र के होटल कर्मचारियों से सेटिंग है। किसी भी बाहरी मुसाफिर के आने पर वह पुलिस को सूचना देते हैं। इस बीच होटल में चेकइन करते समय मुसाफिरों से पूरी डिटेल ली जाती है।

जिससे यह पता चल जाता है कि कौन किसलिए आया है। मनीष और उनके दोस्तों ने चेकइन के समय कर्मचारियों के पूछने पर बताया था कि वह एक प्रॉपर्टी से संबंधित बिजनेस मीटिंग के लिए आए हैं। आरोप है कि पार्टी मजबूत देख पुलिस उन्हें रेड मारकर प्रताड़ित करती है और फिर वसूली कर छोड़ देती है।

होटल पर पुलिस तैनात, अंदर जाने से रोक

घटना के बाद होटल कृष्णा पैलेस को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। यहां बांसगांव और गोरखनाथ की पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। मीडिया या किसी अन्य व्यक्ति को होटल के अंदर जाने नहीं दिया जा रहा है। कहा जा रहा है कि इस बीच होटल से हत्या के सबूत हटाए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...