पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोरखपुर का परवेज एनकांटर:नेपाल से आकर कैंपियरगंज में ठहरा था परवेज, नकहा इलाके के सफेदपोश से मीटिंग करने बाइक से निकला, रास्ते में STF ने मार गिराया

गोरखपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन व खान मुबारक का दाहिना हाथ कहा जाता है परवेज। - Dainik Bhaskar
अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन व खान मुबारक का दाहिना हाथ कहा जाता है परवेज।
  • अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन व खान मुबारक का दाहिना हाथ था परवेज़।
  • गोरखपुर में कुछ सफेदपोश भी उसके संपर्क में थे।

अंबेडकरनगर के अलीगंज इलाके के मखदूमपुर गांव का रहने वाला व एक लाख का इनामी कुख्यात परवेज नेपाल से पूरे यूपी में वसूली का सिंडिकेट चलाता था।

नकली नोटों के कारोबार में भी लिप्त था
अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन व खान मुबारक का दाहिना हाथ कहा जाने वाला परवेज नेपाल से गोरखपुर नकली नोटों के कारोबार का भी बादशाह कहा जाता था। गोरखपुर में उसने किसी अपराधिक वारदात को तो अंजाम नहीं दिया था लेकिन यहां के कुछ सफेदपोश उसके संपर्क में जरूर थे। STF अब उन सफेदपोशों की तलाश कर रही है।

अक्सर गोरखपुर आता था कुख्यात परवेज

बताया जा रहा है कि इन दिनों परवेज का गोरखपुर लगातार आना-जाना हो रहा था। चूंकि यहां उसके उपर कोई मुकदमा नहीं था और यहां की पुलिस उसे पहचानती भी नहीं थी। इसलिए वह यहां बेखौफ होकर घूमता था। दूसरी ओर उसने गोरखपुर के अलावा नेपाल में अपना ठिकाना बना रखा था। यहां से वह अपने इशारे पर पूरे उत्तर प्रदेश में अपराधिक वारदातों को तो अंजाम देता ही था। साथ ही पाकिस्तान से आने वाले नेपाल वाया गोरखपुर वह पूरे देश में नकली नोटों की खेप भी भेजता था। परवेज के इस काम में उसके साथ गोरखपुर के कई बदमाश और सफेदपोश भी शामिल थे।

गोरखपुर के सफेदपोश देते थे पनाह

गोरखपुर के रहने वाले कुछ सफेदपोश उसकी मदद करने के साथ उसे यहां से लेकर नेपाल तक पनाह भी देते थे। लेकिन एसटीएफ को इसकी जानकारी काफी दिनों से थी। वह महीनों से एसटीएफ की रडार पर था। दो दिन पहले उसने नेपाल के रास्ते देश की सीमा में कदम रखा। उसी वक्त से एसटीएफ उसे ट्रेस कर रही थी।

पहले तो उसने कैंपियरगंज इलाके में पनाह ली। शनिवार को परवेज की चिलुआताल इलाके के नकहा में एक सफेदपोश से मीटिंग तय थी। लेकिन देर शाम अचानक उसकी मीटिंग कैंसिल हो गई।

शनिवार को कैंसिल कर रविवार को तय थी मीटिंग

रविवार की दोपहर फिर दोबारा मीटिंग का समय निर्धारित हुआ। दोपहर करीब 3 बजे वह अपने एक साथी के साथ बाइक से नकहा इलाके की ओर जा रहा था। एसटीएफ ने भी उसकी लोकेशन ट्रेस करते हुए पीपीगंज इलाके के सरहरी बालापार रोड पर घेराबंदी कर दी।

बाइक पर साथी के साथ आते परवेज को जैसे ही टीम ने रुकने का इशारा किया उसने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में वह मारा गया। अब एसटीएफ उससे यहां जुड़े लोगों की तलाश कर रही है।

खबरें और भी हैं...