• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Gorakhpur
  • Police Called The Police Station And Beat Up The Businessman, Seeing The Serious, The Police Ran Away Leaving The Injured In The Hospital; Now Treatment Going On In BRD

गोरखपुर के बाद संतकरीबनगर में सामने आई पुलिस की बर्बरता:पुलिस ने थाने बुलाकर व्यापारी को जमकर पीटा, गंभीर देख अस्पताल में घायल को छोड़कर भाग गई पुलिस; अब BRD में चल रहा इलाज

गोरखपुर/संतकरीबनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यहां एक व्यापारी के परिजनों का पुलिस पर आरोप है कि पुलिस ने व्यापारी को थाने में बंद करके इतना पीटा कि वह बुरी तरह घायल हो गया। - Dainik Bhaskar
यहां एक व्यापारी के परिजनों का पुलिस पर आरोप है कि पुलिस ने व्यापारी को थाने में बंद करके इतना पीटा कि वह बुरी तरह घायल हो गया।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता की मौत का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ कि एक बार फिर पुलिस की बर्बरता का एक नया मामला सामने आया है। इस बार यह मामला संतकरीबनगर जिले के धनघटा का है। यहां एक व्यापारी के परिजनों का पुलिस पर आरोप है कि पुलिस ने व्यापारी को थाने में बंद करके इतना पीटा कि वह बुरी तरह घायल हो गया।

गंभीर हालत में उसे इलाज के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर जिला अस्पताल रेफर कर दिया। आरोप है कि पुलिस वाले उसे जिला अस्पताल में छोड़कर फरार हो गए। इसके बाद परिजन उसे गंभीर हालत में बीआरडी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराए हैं। जहां डॉक्टरों ने व्यापारी की हालत नाजुक बताई है।

पुलिस के बुलाने पर थाने गए थे शैलेंद्र
दरअसल, धनघटा इलाके के लहुरे गांव का है जहां पर शैलेंद्र वर्मा उर्फ प्रदीप कुमार वर्मा व्यापारी हैं। उनका उनके पड़ोसी राजकुमार वर्मा से किसी बात का विवाद चल रहा था। राजकुमार ने इस मामले की शिकायत पुलिस में की थी। आरोप है कि गुरुवार को थाने से एक सिपाही शैलेंद्र के घर आया और उन्हें थाने आने को कहा। सिपाही की बात पर शैलेंद्र थाने पहुंच गए। आरोप है कि वहां पहुंचते ही उनके विपक्षी राजकुमार वर्मा पहले से मौजूद थे और पुलिस वालों से बोलते हैं कि यही है शैलेंद्र।

विरोध करने पर ​पुलिस ने की पिटाई
आरोप है कि इतना सुनते ही पुलिस वाले बौखला गए और उन्होंने व्यापारी का कॉलर पकड़ कर मारपीट करने लगे। परिजनों के मुताबिक शैलेंद्र वर्मा ने जब पुलिस वालों से इसका विरोध करते हुए कहा कि क्या मैं कोई क्रिमिनल हूं, जो मेरे साथ इस तरह का दुर्व्यवहार किया जा रहा है। आरोप है कि इतना सुनते ही वहां मौजूद सिपाही और इंस्पेक्टर ने पहले उसे तमाचा मार दिया और फिर वहां मौजूद 10 से 15 सिपाही शैलेंद्र को जमीन पर गिरा कर बुरी तरह पीटने लगे। जिससे वह वहीं बेहोश हो गया। फिलहाल शैलेंद्र वर्मा का बीआरडी मेडिकल कॉलेज में चल रहा है।

खबरें और भी हैं...