पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोरखपुर से अच्छी खबर:ब्लैक फंगस को मात देने की तैयारी, बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हर सोमवार को होगा मरीजों का ऑपरेशन

गोरखपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो, BRD मेडिकल कॉलेज - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो, BRD मेडिकल कॉलेज
  • तीन गंभीर मरीजों का ऑपरेशन किया जा चुका है, दो मरीजों का ऑपरेशन सफल रहा है।

कोरोना संक्रमण के साथ ब्लैक फंगस के खतरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में पूरी तरह सतर्क हो गया है। यहां इमरजेंसी ऑपरेशन के साथ अब ब्‍लैक फंगस के मरीजों के ऑपरेशन की भी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने ब्लैक फंगस के बढ़ते केस को देखते हुए यह फैसला लिया है कि अब हफ़्ते में एक दिन ओटी चलेगी और अब प्रत्येक सोमवार को ब्‍लैक फंगस बीआरडी में ब्लैक फंगस के मरीजों का आपरेशन होगा।

ऑपरेशन में होती है 5 एक्‍सपर्ट की जरूरत
ब्‍लैक फंगस के ऑपरेशन के लिए पांच डॉक्‍टर्स का पैनल बनाया जाता है। इसमें आई सर्जन, न्‍यूरो सर्जन, ईएनटी सर्जन, एनेस्थिसिया, डेंटिस्‍ट शामिल होते हैं। क्‍योंकि यह फंगस आंख, नाक, कान, गला, ब्रेन को प्रभावित करने लगता है। इसलिए समय से इसका इलाज या ऑपरेशन नहीं हुआ तो मरीज की जान भी जान सकती है। इतना ही नहीं मरीज के नाक, कान, गला आदि की सफाई न होने की वजह से भी ब्‍लैक फंगस के खतरे बढ़ जाते हैं।

3 मरीज का हो चुका है ऑपरेशन

बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अब तक 15 केस ब्‍लैक फंगस के आ चुके हैं। जिसमें से तीन गंभीर मरीजों का ऑपरेशन किया जा चुका है। इसमें से दो मरीजों का ऑपरेशन सफल रहा है। महाराजगंज सिसवा बाजार की महिला का ऑपरेशन होने के बाद सुधार नहीं हुआ। आंखों की धमिनियों में संक्रमण बढने का लक्षण नजर आने लगे हैं। इसलिए डॉक्‍टर्स की टीम ने दोबारा ऑपरेशन करने का फैसला लिया है। बीआरडी मेडिकल कॉलेज के आई सर्जन व नोडल अअधिकारी डॉ. राम कुमार जायसवाल ने बताया कि अब हर हफ्ते में प्रत्येक सोमवार को ब्‍लैक फंगस का आपरेशन करने का विचार किया जा रहा है और आदेश आते ही ऑपरेशन शुरू कर दिया जाएगा।

ये हैं ब्लैक फंगस के लक्षण
जुकाम, आंखों में लालपन, आंख और नाक में सूजन, तेज सिर दर्द होना

इन आर्गन पर करता है असर
आख, नाक, गला, ब्रेन

इन मरीजों को सतर्क रहने की ज़रूरत
डायबटिज, किडनी, एडस, कैंसर, हार्ट

इन मरीजों पर अधिक असर
कमजोर इम्‍युनिटी, कोरोना संक्रमण में ठीक हुए पेशेंट, डायबिटीक पेशेंट, जिनका किडनी ट्रांसप्‍लांट हुआ है, एडस, कैंसर और हार्ट के गंभीर मरीज

ऐसे करें बचाव
कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ओरल हाइजीन का ध्‍यान रखें।
मुंह के अंदर ऐसे कोई चीज तो नहीं है जो जम रही
कोरोना से ठीक होने के बाद भी स्‍टेरॉइड वाली दवाओं को अचानक न बंद करें, डॉक्‍टर की सलाह पर धीरे-धीरे ही छोड़ें