ढाई साल में भी प्री-PHD परीक्षा नहीं करा सका DDUGU:शोध छात्रों का लगातार 5वें दिन भी गोरखपुर विश्वविद्यालय पर धरना जारी, छात्र बोले- सभी को एक साथ किया जाए प्रमोट

गोरखपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वर्ष 2019 के प्री-पीएचडी छात्रों का धरना मंगलवार को भी लगातार 5वें दिन भी जारी रहा। - Dainik Bhaskar
वर्ष 2019 के प्री-पीएचडी छात्रों का धरना मंगलवार को भी लगातार 5वें दिन भी जारी रहा।

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में वर्ष 2019 के प्री-पीएचडी छात्रों का धरना मंगलवार को भी लगातार 5वें दिन भी जारी रहा। धरने में 50 से ज्यादा छात्राओं के आने से विश्वविद्यालय प्रशासन की मुश्किलें बढ़ गईं। छात्रों ने कहा कि प्रमोट करने का लिखित आश्वासन मिलने पर ही धरना समाप्त होगा। उधर, पूरे घटनाक्रम पर राजभवन भी नजर बनाए हुए है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने दीक्षांत समारोह का हवाला देकर छात्रों से धरना समाप्त करने की अपील की है।

6 बार छात्रों ने दिया धरना
छात्र कमलकांत राव ने कहा कि प्री-पीएचडी की परीक्षा छह महीने में हो जानी थी, जबकि ढाई साल बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन कराने में असमर्थ रहा। छह बार छात्रों ने धरना दिया। अब मुश्किल यह है कि अगर प्रमोट नहीं किया जाता है तो कई लोगों की समयावधि समाप्त हो जाएगी। इसके चलते वे पीएचडी नहीं कर पाएंगे। 6 बार छात्रों ने धरना दिया, अब मुश्किल है कि अगर प्रमोट नहीं किया जाता है तो कई लोगों की समाधि समाप्त हो जाएगी। इसके चलते छात्र पीएचडी नहीं कर पाएंगे।

धरने पर बैठे छात्रों का कहना है कि विश्वविद्यालय प्रशासन अड़ियल रवैया अपनाए हुए है। वार्ता को हम तैयार हैं, लेकिन कोई जिम्मेदार अधिकारी सामने नहीं आ रहा है। शोधार्थियों का कहना है कि सभी को एक साथ प्रमोट किया जाए। जनवरी के प्रथम सप्ताह में सभी का पीएचडी में पंजीकरण कर लिया जाए। इस अवसर पर भाष्कर चौधरी, शिवशंकर गौड़, दीपक यादव, मनीष, पवन कुमार, सत्येंद्र भारती, दीप्ति, पिंकी, सोनी पाल, अंजनी, चंदा, ममता, निधि आदि मौजूद रहे।

कुलसचिव ने की धरना खत्म करने की अपील
कुल सचिव विश्वेश्वर प्रसाद ने पत्र लिखकर धरने पर बैठे प्री-पीएचडी 2019-20 के शोध छात्रों से धरना समाप्त करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि परीक्षा कराने के संबंध में कई बार विश्वविद्यालय प्रशासन के साथ वार्ता हो चुकी है। वार्ता के क्रम में परीक्षा को लेकर स्थिति को स्पष्ट करते हुए सूचना निर्गत की गई है। वार्ता के दौरान अधिकतर बिंदुओं पर सहमति बन चुकी है। शेष बिंदुओं पर विश्वविद्यालय सकारात्मक रुख अपनाते हुए जल्द निर्णय लेगा।

प्री-पीएचडी परीक्षा एवं पंजीकरण की प्रक्रिया जल्द पूर्ण करा ली जाएगी। विश्वविद्यालय का 40वां दीक्षांत समारोह 15 दिसंबर को होना है, जिसमें कुलाधिपति एवं दीक्षांत के मुख्य अतिथि प्रो. एके श्रीवास्तव का आगमन होगा। आप सभी विद्यार्थियों से अनुरोध है कि शीघ्र आंदोलन व धरना समाप्त कर दीक्षांत समारोह को गरिमापूर्ण ढंग से संपन्न कराने में विश्वविद्यालय का सहयोग करें।

खबरें और भी हैं...