गोरखपुर में बेघर हो गई कांग्रेस:किराए का भी पार्टी कार्यालय होगा खाली, मुकदमें के पेच में फंसा है पुराना कार्यालय, जिला अध्यक्ष बोलीं- बेघर नहीं है कांग्रेस

गोरखपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किराए के मकान में चल रही कार्यालय को भी खाली करने का अल्टीमेटल मिल चुका है। - Dainik Bhaskar
किराए के मकान में चल रही कार्यालय को भी खाली करने का अल्टीमेटल मिल चुका है।

एक ओर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी यूपी में दम तोड़ चुकी कांग्रेस की जान फूंकने में लगी हैं तो वहीं, योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर जिले में कांग्रेस पूरी तरह से बेघर हो चुकी है। पार्टी कार्यालय मुकदमें के पेंच में फंसा है। जबकि किराए के मकान में चल रही कार्यालय को भी खाली करने का अल्टीमेटल मिल चुका है। ऐसे में इन दिनों कांग्रेस के पास ​गोरखपुर में फिलहाल कोई खुद का ठिकाना भी नहीं है।

लोकसभा चुनाव में लिया था किराए का कार्यालय
दरअसल, कांग्रेस पार्टी का जिला कार्यालय शहर के विजय चौक स्थित पुर्दिलपुर में 1990 से चल रहा था, लेकिन वर्ष 2017 के दौरान यह कार्यालय मुकदमें के पेंच में फंस गया। इसके बाद कुछ दिनों तक पार्टी यहां अपने कार्यालय का दावा तो करती रही, लेकिन जब कोई रास्ता नहीं मिला तो लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस ने शहर के ट्रांसपोर्ट नगर स्थित एक किराए के मकान में पार्टी का कार्यालय बना लिया। लेकिन इस बीच उसे भी खाली करने का फरमान जारी होने से पार्टी के सामने नई मुसीबत खड़ी हो गई।

गृह स्वामी ने दिया नोटिस
सूत्रों के मुताबिक भवन स्वामी ने कार्यालय खाली करने के लिए पार्टी के पदाधिकारियों को नोटिस जारी किया है। जबकि कांग्रेस की जिलाध्यक्ष निर्मला पासवान का कहना है कि पार्टी का पुराने कार्यालय का कोर्ट में केस चल रहा है। फिलहाल टांसपोर्ट नगर में ही पार्टी का कार्यालय है। हां वहां निर्माण कार्य शुरू होने जा रहा है। ऐसे में गृह स्वामी ने कार्यालय खाली करने का समय दिया है। उससे पहले पार्टी के कार्यालय के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था तलाश ली जाएगी।

खबरें और भी हैं...