गोरखपुर में सिपाही ने फांसी लगाकर की आत्महत्या:रामगढ़ताल थाने में तैनात था सिपाही, सुसाइड नोट में डिप्रेशन बताई आत्महत्या की वजह; महिला कांस्टेबल से संबंध

गोरखपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रविवार सुबह 9 बजे जब वह थाने नही पहुंचे तो सहयोगी कर्मी उसकी तलाश में घर पहुंचे। दरवाजा खटखटाया तो कोई आवाज नहीं आई। - Dainik Bhaskar
रविवार सुबह 9 बजे जब वह थाने नही पहुंचे तो सहयोगी कर्मी उसकी तलाश में घर पहुंचे। दरवाजा खटखटाया तो कोई आवाज नहीं आई।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में रविवार की सुबह रामगढ़ताल थाने में तैनात सिपाही आसिफ ने फंदे से लटककर आत्महत्या कर लिया। रविवार सुबह तकरीबन नौ बजे जब वह थाने नही पहुंचे तो उनके सहयोगी उसके तलाश में घर पहुंचे। दरवाजा खटखटाया तो कोई आवाज नहीं आई। जिसके बाद में खिड़की से देखने पर वह लटकते हुए दिखाई दिए। जिसके बाद सहयोगी पुलिसकर्मियों ने उन्हें जिला अस्पताल ले गए. जहां उन्हें डॉक्टरों की टीम ने मृत घोषित कर दिया।

महिला सिपाही से निजी संबंध की भी चर्चा

बलिया के गढ़वाल थाना क्षेत्र के हनोली बरिद निवासी आसिफ 2018-19 बैच के सिपाही थे। वह पिछले 2 साल से गोरखपुर के रामगढ़ताल थाने में तैनात थे। सिपाही की मौत को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हैं। चर्चा यह भी है कि उसका एक महिला सिपाही से नजदीकी संबंध था। शुक्रवार की रात उसी महिला सिपाही से विवाद के बाद वह घर जाकर खुदकुशी कर लिया है। हालांकि, पुलिस अफसर इस बात को सिरे से नकार रहे हैं। उनका कहना है कि सुसाइड नोट में ऐसा कोई जिक्र नहीं है, ना ही थाने से इस तरह की कोई बात सामने आई है।

रात में ड्यूटी से घर गए थे
साथी पुलिसकर्मियों के अनुसार आसिफ रात में आठ बजे ड्यूटी कर घर गए थे। वह सेल टैक्स ऑफिस के पास किराए का कमरा लेकर रहते थे। रात में वह फंदे से लटककर खुदकुशी कर ली। उन्होंने मरने से पहले सुसाइड नोट भी लिखा है। जिसमे उन्होंने आत्महत्या का कारण निजी बताया है। फिलहाल पुलिस ने उनके घरवालों को सूचना दे दी है। परिवार के आने के बाद आत्महत्या का कारण स्पष्ट होगा।

खबरें और भी हैं...