गोरखपुर में 100 करोड़ से बनेगा नया स्टेडियम:शहर के सुबाष चंद्र बोष नगर में बनेगा स्टेडियम, नगर निगम की 9 एकड़ जमीन पर शुरू हुई तैयारी

गोरखपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह स्टेडियम शहर के सुबाषचंद्र बोष नगर में स्थित नगर निगम की 9 एकड़ जमीन पर बनेगा। - Dainik Bhaskar
यह स्टेडियम शहर के सुबाषचंद्र बोष नगर में स्थित नगर निगम की 9 एकड़ जमीन पर बनेगा।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के खाते में जल्द ही एक और उपलब्धि जुड़ने जा रही है। रिजीनल स्टेडियम और सैयद मोदी रेलवे स्टेडियम के अलावा शहर में जल्द ही तीसरे स्टेडियम का निर्माण शुरू हो जाएगा। यह स्टेडियम शहर के सुबाषचंद्र बोष नगर में स्थित नगर निगम की 9 एकड़ जमीन पर बनेगा। नगर आयुक्त अविनाश सिंह के मुताबिक इसके​ लिए नगर निगम की ओर से कार्ययोजना शुरू करा दी गई है। जल्द ही इसका बजट बनाकर शासन को भेजा जाएगा। बजट स्वीकृत होते ही स्टेडियम के निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा।

स्टेडियम में होंगी यह सुविधाएं
नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि यह स्टेडियम पूरी तरह हाईटेक होगा। जिसमें सभी तरह के खेलों के ग्राउंड और कोच की व्यवस्था होगी। इसके साथ ही यहां बड़े मैदान और ट्रैक के अलावा पार्किंग, हास्टल, कैफेटेरिया, सभी तरह के इनडोर गेम, टेबल टेनिस, जिम्नास्टिक, बैडमिंटन सहित अन्य सभी खेलों की व्यवस्था और उसके खिलाड़ियों के रहने के लिए हॉस्टल की भी व्यवस्था होगी।

उन्होंने बताया कि इस स्टेडियम का निर्माण पूरी तरह से ऐकाना स्टेडियम के तर्ज पर होगा। हालांकि ऐकाना के निर्माण मेें करीब 360 करोड़ रुपए का बजट खर्च हुआ था। लेकिन इस स्टेडियम को 75 से 100 कऱोड़ रुपए के ही बजट में तैयार करा लिया जाएगा।

नगर निगम की 9 एकड़ जमीन में बनेगा स्टेडियम
नगर आयुक्त ने बताया कि शासन के निर्देश पर गोरखपुर में प्रस्तावित स्टेडियम के लिए जमीन की काफी दिनों से तलाश चल रही थी, लेकिन अब इस स्टेडियम का निर्माण नगर निगम की जमीन में ही कराया जाएगा। सुबाषचंद्र बोष नगर में स्थित नगर निगम की 9 एकड़ जमीन को इसके लिए आवंटित कर दिया गया है। साथ ही इसपर विस्तृत कार्ययोजना भी तैयार कराई जा रही है।

जल्द ही इसकी कार्य योजना तैयार कर शासन को भेज दी जाएगी और शासन से बजट जारी होते ही इसपर काम भी शुरू हो जाएगा। उम्मीद है कि इस वर्ष के अंत तक शहर में नए और भव्य स्टेडियम का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हाथों शिलान्यास होगा।

खबरें और भी हैं...