गोरखपुर...चौरीचौरा तहसील में BJP किसान का हंगामा:एक हफ्ते लाइन लगाया, फिर भी नहीं खरीदी धान; 18 कुंतल धान लेकर तहसील पहुंच गया किसान, बोला- 20 दिन से काट रहा हूं चक्कर

गोरखपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोमवार को धान से लदी गाड़ी लेकर तहसील ही पहुंच गया और हंगामा करने लगा। वह एसडीएम से शिकायत करना चाहता था। - Dainik Bhaskar
सोमवार को धान से लदी गाड़ी लेकर तहसील ही पहुंच गया और हंगामा करने लगा। वह एसडीएम से शिकायत करना चाहता था।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां चौरीचौरा में एक किसान और बीजेपी के बूथ अध्यक्ष की धान जब एक हफ्ते तक क्रय केंद्र पर नहीं खरीदी गई तो तंग आकर उसने सोमवार को धान से लदी गाड़ी लेकर तहसील ही पहुंच गया और हंगामा करने लगा। वह एसडीएम से शिकायत करना चाहता था, लेकिन एसडीएम मौजूद नहीं थे।

जिसके बाद वापस फिर किसान क्रय केंद्र गया। बाद में वहां से उसे आश्वासन मिला। किसान का कहना है कि पिछले 20 दिन से वह धान की फसल को बेचने के लिए क्रय केंद्र का चक्कर लगा रहा है, लेकिन क्रय नहीं किया जा रहा है। थक हार कर वह आज शिकायत करने पहुंचा है।

ब्रम्हपुर व सरदारनगर विकास खंड में है 17 क्रय केंद्र
एक तरफ किसान धान बेचने के लिए परेशान है, तो दूसरी ओर प्रशासन का दावा है कि सिर्फ चौरीचौरा तहसील के ब्रह्मपुर व सरदार नगर ब्लाक में 17 क्रय केंद्र कार्यरत हैं, जो धान की खरीदी कर रहे हैं।

बीजेपी का बूथ अध्यक्ष भी है पीड़ित किसान
यह हाल तब है जब पीड़ित किसान खैराबाद निवासी लालबहादुर मौर्या बीजेपी का बूथ अध्यक्ष है। अगर कोई और किसान होगा तो उसके साथ इन क्रय केंद्रों पर क्या होता होगा। किसान का कहना है कि अगर धान की खरीद नही हुई तो उसे मजबूरन में यहां फेकना पड़ेगा।

तत्काल क्रय कराया जाएगा धान
धान क्रय केंद्र गोरखपुर के डिप्टी आरएमओ राजू पटेल ने कहा कि किसानों के लिए क्रय के लिए आनलाइन कराना जरूरी है। ऐसा मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। अगर किसान के पास टोकन होगा तो तुरंत क्रय कराया जाएगा। मामले का पता कराया जा रहा है।

धान लेकर महीनों से चक्कर काट रहे किसान
हैरानी वाली बात यह है कि यह हाल यहां सिर्फ किसी एक किसान का नहीं है, बल्कि यहां क्रय केंद्रों पर धान खरीदी ही नहीं जा रही है। जिसकी वजह से किसानों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। चौरीचौरा के बघाड़ गांव के रहने वाले किसान रमाशंकर भी एक महीने से हाट शाखा सरदारनगर का चक्कर लगा रहे है। लेकिन उनकी धान नहीं खरीदी गई। अंत में परेशान होकर उन्होंने तहसील दिवस व आइजीआरएस पर लिखित शिकायत की। उनका 91 कुंतल धान अब तक नहीं खरीदा गया है।

इसी तरह खैराबाद के गोरख गुप्ता का भी अपना 51 कुंतल धान लेकर दर- दर भटकर रहे हैं। उनका कहना है कि वे एक महीने से परेशान है, लेकिन क्रय केंद्रों पर धान नहीं खरीदी जा रही है। जिससे मजबूरन उन्हें अपना धान बाहर कम कीमतों पर बेचना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...