नाबालिग से रेप कर वायरल की न्यूड फोटो:5 दिनों से गोरखपुर और देवरिया पुलिस के चक्कर काट रही थी पीड़िता

गोरखपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गोरखपुर में एक नाबालिग लड़की से पहले उसके बॉयफ्रेंड ने रेप किया। इसके बाद उसकी न्यूड फोटो वायरल कर दी। उसने उसकी न्यूड फोटो का प्रिंटआउट निकाला। फिर उसी फोटो के साथ लड़की के कैरेक्टर को लेकर एक पर्चा छपवाया। इसके बाद वही परचा लड़की के पूरे गांव में बंटवा दिया। अब उसे जान से मारने की धमकी भी दे रहा है।

अब लड़की इंसाफ के लिए पिछले 6 दिनों से गोरखपुर से देवरिया तक पुलिस अधिकारियों के चक्कर काट रही है। मगर, कहीं से उसे न्याय नहीं मिल रहा है। पीड़िता का कहना है कि उसे इंसाफ नहीं मिला, तो आत्मदाह कर जान दे देगी।

आइए, जानते हैं इस घटना की पूरी कहानी, पीड़िता की जुबानी...

मेरा नाम साक्षी (बदला हुआ नाम) है। मैं देवरिया जिले के एक गांव की रहने वाली हूं। मेरे पिता किसान हैं और मां हाउसवाइफ हैं। मेरी 8 बहनें हैं। इनमें 5 मुझसे बड़ी हैं और दो छोटी। मैंने इस साल यूपी बोर्ड से 10वीं की परीक्षा पास की है।

मैं, नवंबर 2020 में अपने रिश्तेदार के घर कुशीनगर के एक गांव में गई थी। उसी गांव के रहने वाले एक युवक को कहीं से मेरा मोबाइल नंबर मिल गया। वह मुझे बार-बार फोन कर परेशान करने लगा।

यह सिलसिला काफी दिनों तक चला, लेकिन वह नहीं मानता। मुझे लगातार फोन करता था। कुछ दिन बाद मैं भी उससे बात करने लगी। सितंबर, 2021 में उसने मुझे धोखे से गोरखपुर के तरकुलहा देवी मंदिर बुलाया। मैं उससे मिलने आ गई। पहले हमने मंदिर में दर्शन किए। फिर वह मुझे मंदिर से कुछ दूरी पर बने अनमोल होटल में ले गया। वह मुझसे बोला- चलो कुछ खा-पीकर आते हैं।

रेप कर ले ली न्यूड फोटो
'मगर, वह मुझे होटल के कमरे में ले गया। इससे पहले मैं कभी होटल में गई नहीं थी, इसलिए मैं कुछ ज्यादा समझ नहीं पाई। होटल के कमरे में पहुंचते ही उसने दरवाजा बंद कर दिया। फिर एक- एक कर मेरे सभी कपड़े उतार दिए।

मैंने इसका काफी विरोध किया, मगर वह किसी कीमत पर मानने को तैयार नहीं हुआ। इसके बाद उसने होटल के कमरे में ही जबरदस्ती मेरा कई बार रेप किया। साथ ही मेरी न्यूड फोटो भी अपने मोबाइल में ले ली।

मैं उसके सामने रोने और गिड़गिड़ाने लगी, लेकिन वह कुछ सुनने को तैयार नहीं था। मुझे पीटने लगा। इसके बाद वह मुझे होटल के ही कमरे में छोड़कर भाग गया। किसी तरह मैं होटल से निकलकर अपने घर पहुंची।

कुछ दिनों तक समाज के डर से इस घटना के बारे में किसी को भी नहीं बताया। मुझे लगा कि अगर मेरे परिवार के लोगों को यह पता चलेगा, तो वह इसे बर्दाश्त नहीं कर सकेंगे और मर जाएंगे।

मगर, मेरे बॉयफ्रेंड की दरिंदगी का सिलसिला यहीं खत्म नहीं हुआ। वह अब मुझे मेरी न्यूड फोटो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करने लगा। वह मुझे बार-बार मिलने को बुलाने लगा। मैं उससे मिलने जब भी जाती, तो मुझे देखते ही बिलकुल वहशी हो जाता। वह मेरे साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म भी करने लगा था।

फोटो वायरल करने की धमकी दी और चला गया
बात 16 जुलाई, 2022 की है, जब मैं उससे मिलने आखिरी बार अनमोल होटल पहुंची। उसने इस बार मुझे भरोसा दिलाया था कि वह मेरी सभी फोटो अपने मोबाइल से डिलीट कर देगा। मैं उसकी बात पर मजबूरी में विश्वास कर उससे मिलने होटल पहुंच गई। उसने मुझे अंदर कमरे में चलने को कहा। मगर, उसके साथ दो और लड़के भी थे। जिन्हें देखकर मैंने कमरे में जाने से इंकार कर दिया। इस पर वह भड़क गया और फिर मेरी फोटो वायरल करने की धमकी देते हुए वहां से चला गया।

इसके बाद 19 जुलाई का दिन मेरे लिए जिंदगी का सबसे बुरा दिन साबित हुआ। उस दिन वही हुआ, जिसका डर था। सुबह 4 बजे मेरे बॉयफ्रेंड ने मेरी न्यूड फोटो का प्रिंटआउट निकालकर पूरे गांव में जगह-जगह पर फेंक दिया। साथ ही उसे इंटरनेट पर भी वायरल कर दिया। फोटो के साथ उसने मेरे कैरेक्टर को लेकर एक फर्जी लेटर भी लिखा और फोटो के साथ उस लेटर की फोटोकॉपी भी वायरल कर दी।

पूरे गांव में और इंटरनेट पर वायरल कर दी फोटो
इसके बाद मेरी फैमली ही नहीं, पूरे गांव को सब कुछ पता चल गया। परिवार के लोगों ने शर्म की वजह से घर से निकलना बंद कर दिया। फोन की घंटी बजती, तो लोग एक ही सवाल करते। जिसकी वजह से हम लोगों ने फोन भी रिसीव करना बंद कर दिया।

इसके बाद मैं अपने पिता के साथ देवरिया के गौरी बाजार थानाध्यक्ष के पास गई। उन्होंने यह कहते हुए लौटा दिया कि घटना गोरखपुर के चौरीचौरा इलाके में हुई है। इसलिए केस भी वहीं पर दर्ज होगा।

5 दिनों से पिता के साथ थानों के काट रही हूं चक्कर
इसके बाद मैं पिता के साथ चौरीचौरा थाने पहुंची। वहां थानाध्यक्ष ने कहा कि तुम और आरोपी दोनों देवरिया जिले के रहने वाले हो। इसलिए यह केस देवरिया में दर्ज होगा। उन्होंने कहा कि गौरीबाजार पुलिस अगर केस नहीं दर्ज करती, तो उनसे मेरी बात कराना। थानाध्यक्ष ने अपना मोबाइल नंबर भी दिया। फिर मैं पिता के साथ वापस गौरीबाजार थाने पहुंची, चौरीचौरा थानाध्यक्ष से उनकी बात भी कराई। मगर, इसके बाद भी गौरीबाजार की पुलिस मेरी सुनने को तैयार नहीं हुई और मुझे थाने से वापस भेज दिया।

SP क्राइम ने फिर वापस देवरिया भेजा
इस बीच किसी ने मुझे गोरखपुर के SSP डॉ. गौरव ग्रोवर से मिलने की सलाह दी। सोमवार को मैं अपने पिता के साथ SSP कार्यालय पहुंची। SSP साहब तो नहीं मिले, लेकिन वहां उनकी जगह SP क्राइम इंदु प्रभा सिंह मिलीं। मैंने उन्हें सब कुछ बताया। एक महिला होकर भी वह मेरा दर्द नहीं समझीं। उन्होंने मुझे वापस देवरिया एसपी से मिलने की सलाह दी।

अब मैं और मेरा पूरा परिवार इस जिल्लत भरी जिंदगी से थक चुके हैं और अगर अब मुझे न्याय नहीं मिला, तो मैं आत्मदाह कर अपनी जान दे दूंगी।

SSP ने दिए केस दर्ज करने के आदेश
SSP डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया कि का अभी मामला मुझे पता चला है। पीड़ित मुझसे मिलनी आई थी, लेकिन उसकी मुलाकात SP क्राइम से हुई। मैंने पीड़िता का प्रार्थना पत्र मंगवाया है। उस पर चौरीचौरा पुलिस को केस दर्ज कर कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं। पीड़िता को न्याय मिलेगा और दोषी को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।