पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोरखपुर में एनकाउंटर:नेपाल से वसूली का सिंडिकेट चलाने वाले परवेज को STF ने मार गिराया, छोटा राजन और खान मुबारक का राइट हैंड था

लखनऊ, गोरखपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
परवेज को गैंगेस्टर खान मुबारक का दाहिना हाथ माना जाता था। लाल घेरे में परवेज है। - Dainik Bhaskar
परवेज को गैंगेस्टर खान मुबारक का दाहिना हाथ माना जाता था। लाल घेरे में परवेज है।

यूपी के गोरखपुर में रविवार को STF ने शॉर्प शूटर परवेज अहमद को एनकाउंटर में मार गिराया। उस पर एक लाख रुपए का इनाम था। परवेज अंडर वर्ल्ड डॉन छोटा राजन और खान मुबारक का राइट हैंड माना जाता था। उसे नकली करेंसी के कारोबार का बादशाह भी कहते थे। परवेज नेपाल से पूरे यूपी में वसूली का सिंडिकेट चलाता था।

बताया जाता है कि शनिवार को परवेज की गोरखपुर के चिलुआताल इलाके के नकहा में एक सफेदपोश से मीटिंग थी। लेकिन देर शाम अचानक मीटिंग कैंसिल हो गई। यह मीटिंग रविवार दोपहर को होनी थी। दोपहर करीब 3 बजे वह अपने एक साथी को लेकर बाइक से नकहा इलाके में आ रहा था।

STF ने पीपी गंज इलाके के सरहरी बालापार रोड पर घेराबंदी कर दी। ADG अमिताभ यश के मुताबिक पुलिस ने रुकने का इशारा किया, तो उसने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में वह मारा गया। उसे 4 गोलियां लगी हैं। परवेज के पास से 2 पिस्टल भी बरामद हुई। उसका साथी फरार हो गया, जिसे पकड़ने के लिए पुलिस पीछा कर रही है।

एनकाउंटर वाली जगह पर मौजूद पुलिस और STF की टीम।
एनकाउंटर वाली जगह पर मौजूद पुलिस और STF की टीम।

परवेज 2018 से था फरार
​​​​​​​अंडरवर्ल्ड डॉन खान मुबारक के इशारे पर गोलियां बरसाने वाला परवेज अक्टूबर 2018 में अंबेडरनगर जिले के BSP नेता जुगाराम मेंहदी की हत्या करके फरार हुआ था। इसके बाद पुलिस ने उस पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया था।

परवेज अंबेडकरनगर के मखदूमनगर का रहने वाला था। STF गोरखपुर यूनिट के डिप्टी SP धर्मेश कुमार शाही और निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह ने बताया कि परवेज मखदूमनगर में कई हत्याओं के मामले में मोस्ट वांटेड था।​​​​​​​

नकली नोटों के कारोबार का बादशाह
अंडर वर्ल्ड डॉन छोटा राजन व खान मुबारक का दाहिना हाथ कहा जाने वाला परवेज नेपाल वाया गोरखपुर नकली नोटों के कारोबार का भी बादशाह कहा जाता था। ये नोट पाकिस्तान से आने पर वाया नेपाल वह पूरे देश भेजता था।

परवेज के इस काम में गोरखपुर के कई बदमाश और सफेदपोश भी शामिल थे। गोरखपुर में उसने किसी अपराधिक वारदात को अंजाम नहीं दिया, लेकिन यहां के कुछ सफेदपोश जरूर उसके संपर्क में थे। यहां कोई मामला दर्ज नहीं था इसलिए वह बेखौफ धूमता था।

गोरखपुर के सफेदपोश देते थे पनाह
परवेज को गोरखपुर में उसे सफेदपोश साथी पनाह भी देते थे। STF को इसकी जानकारी काफी दिनों से थी। वह कई महीनों से STF की रडार पर था। दो दिन पहले उसने नेपाल के रास्ते देश की सीमा में कदम रखा। उसी वक्त से उसे ट्रेस किया जा रहा था। पहले तो उसने कैंपियर गंज इलाके में पनाह ली।

परवेज का डोजियर।
परवेज का डोजियर।

2018 में हुई थी जुगराम मेहंदी की हत्या
​​​​​​​अंबेडकनगर जिले में हीरापुर बाजार के पास 15 अक्टूबर 2018 की सुबह करीब 10 बजे बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर बसपा नेता जुरगाम मेहंदी और उनके चालक की हत्या कर दी थी। इस गोलीबारी मे दो राहगीर भी घायल हो गए थे। गैंगेस्टर खान मुबारक समेत 11 लोगों के खिलाफ हत्या और साजिश की धाराओं में अंबेडकरनगर के हंसवर थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था।

जानिए कौन है खान मुबारक
खान मुबारक, अंडरवर्ल्ड के बदमाश जफर सुपारी का भाई है और अंबेडकरनगर जिले के हंसवर थाना क्षेत्र के ग्राम हरसम्हार का रहने वाला है। खान मुबारक काला घोड़ा हत्याकांड के बाद चर्चा में आया था और छोटा राजन गिरोह का हिस्सा था। छोटा राजन से मिलकर इसने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के खिलाफ गैंग तैयार किया था।

खान मुबारक की फाइल फोटो।
खान मुबारक की फाइल फोटो।

जफर सुपारी ने भी 15 साल की उम्र में ही गांव के एक लड़के की हत्या कर अपराध की दुनिया मे कदम रखा था। यूपी पुलिस के टॉप-5 अपराधियों में खान मुबारक का नाम भी शामिल है। खान मुबारक फिलहाल अंबेडकर नगर के कारोबारी ऐनुद्दीन की हत्या में इस वक्त उरई जेल में बंद है।

खबरें और भी हैं...