पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोरखपुर वालों को रास आया लॉकडाउन:कोरोना कर्फ्यू के दौरान चोरी छिपे खूब बिकी गाड़ियां: 1 महीने में 17500 गाड़ियां फाइनेंस हुईं , 3464 गाड़ियों का हुआ रजिस्ट्रेशन

गोरखपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गोरखपुर में 1 महीने में 17500 गाड़� - Dainik Bhaskar
गोरखपुर में 1 महीने में 17500 गाड़�

कोरोना संकट के बीच जहां लोग दवा और इलाज के लिए मशक्क्त कर रहे हैं। तमाम लोगों की नौकरियां जा रही हैं वहीं गोरखपुर जिले के फाइनेंस कंपनियों व आटोमोबाइल शोरूम वालों के लिए किसी अवसर से कम नहीं साबित हो रहे हैं। कोरोना कर्फ्यू के दौरान भी इन दोनों की कमाई दिन दोगुनी और रात चौगुनी होती जा रही है। क्योंकि लॉकडाउन के दौरान भी जिले में गाड़ियों के बिकने का सिलसिला रूका नहीं है, बल्कि बंद शोरूम के पीछे भी चोरी चोरी रोजाना खूब गाड़ियां बेची जा रही हैं।

लॉकडाउन के दौरान भी गोरखपुर में सिर्फ एक महीने में 17500 गाड़ियां विभिन्न फाइनेंस कंपनियों से फाइनेंस की गई हैं। इतना ही नहीं आरटीओ दफ्तर में भी अब तक 3464 गाड़ियों को इस लॉकडाउन के दौरान रजिस्ट्रेशन भी हो चुका है।

एक प्राइवेट फाइनेंस कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इनमें विभिन बजाज एलियांज, आइसीआईसीआई लॉबार्ड, श्रीराम फाइनेंस, एचडीबीसी सहित अन्य कंपनियां शामिल है। वहीं, उन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हीरो फीलकार्क ने अब तक 900, एसडीबी फाइनेंस ने 150 और होंडा व टीवीएस ने भी करीब 250 गाड़ियां फाइनेंस की है।

28 मई तक आरटीओ में 3464 गाड़ियों का हुआ रजिस्ट्रेशन
वहीं, अगर आरटीओ के रिकार्ड पर गौर करें तो यहां 1 मई से 28 मई के बीच 3464 गाड़ियों का अब तक रजिस्ट्रेशन किया जा चुका है। इनमें बाइक, कार से लेकर ट्रैक्टर और अन्य कामर्शियल वाहन शामिल हैं।

एआरटीओ प्रशासन श्याम लाल ने बताया कि इन वाहनों के रजिस्ट्रेशन लॉकडाउन की अवधि के दौरान ही किए गए हैं। जबकि कई बार गाड़ियां बिकने के 10—15 दिन बाद भी उनके रजिस्ट्रेशन आरटीओ कार्यालय पहुंचने में लग जाते हैं। ऐसे में अब तक जितने वाहनों के रजिस्ट्रेशन हुए उनकी संख्या 3464 है। इस दौरान बिकी हुई अन्य गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन आने वाले एक हफ्ते बाद तक आते रहेंगे।

किन गाड़ियों का कितना हुआ रजिस्ट्रेशन
ट्रैक्टर 64, एंबुलेंस 3, बस 7, कंस्ट्रक्शन कार्य के वाहन 2, कंस्ट्रक्शन कार्य के कामर्शियल वाहन 1, क्रेन 1, ई—रिक्शा 24, ई—रिक्शा कार्ट के साथ 1, गुड्स कैरियर 33, हारवेस्टर 2, बाइक/स्कूटर 2708, मोपेड 134, मोटर कैब 3, कार 455, थ्री विल्हर माल वाहक 5, थी विल्हर यात्री 21 हैं। इनमें 94 वाहनों के रजिस्ट्रेशन कामर्शियल में हुए हैं, जबकि 3370 वाहनों के रजिस्ट्रेशन प्राइवेट मे हुए हैं।