मौदहा में 22 स्थानों पर सजाए गए देवी पंडाल:सोमवार को होगी मूर्ति स्थापना, साफ-सफाई के दिए गए निर्देश

मौदहा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हमीरपुर के मौदहा में 25 सितंबर को क्षेत्र के गांवों में अश्विन नवरात्रों की तैयारियों के बीच देवी पाण्डाल सजाने का कार्य तेजी के साथ चल रहा है। कोतवाली क्षेत्र में कुल सैंतीस स्थानों पर देवी प्रतिमाएं स्थापित की जायेंगी, जिनमें से 22 प्रतिमाएं अकेले कस्बा क्षेत्र में स्थापित की जा रही हैं। नवरात्र के प्रथम दिन सभी पाण्डालों में विधिविधान के साथ देवी प्रतिमाओं को स्थापित किया जायेगा। इनके साथ ही सिसोलर एवं बिंवार थाना क्षेत्रों में भी देवी प्रतिमाओं को स्थापित किया जायेगा।

बताते चलें कि 26 सितंबर दिन सोमवार को अश्विन नवरात्रों का प्रथम दिन है। विगत वर्षों की तरह इस वर्ष भी मौदहा कस्बा सहित ग्रामीण क्षेत्रों में देवी प्रतिमाओं की स्थापना की जा रही हैं। कस्बा में तहसील मार्ग, अरतरा चौराहा, रामलीला मैदान, गांधी पार्क, चिकवा मोहाल, पूर्व विधायक कुंवर बहादुर मिश्रा के आवास के समीप, क्योटरा मोहाल, गुड़ाही बाजार, रामनगर मोहाल, सिंचाई विभाग सहित कुल बाइस स्थानों पर देवी पाण्डालों को सजाया गया है।

सोमवार को स्थापित होगी प्रतिमाएं
वहीं कोतवाली के ग्रामीण क्षेत्रों में कुल पंद्रह स्थानों पर देवी पाण्डाल सजाये गये हैं। जहां सोमवार को विधिविधान के साथ देवी प्रतिमाओं को स्थापित किया जायेगा। वहीं सिसोलर थाना क्षेत्र के गांव सिसोलर, भुलसी, भैसमरी, टोलामाफ सहित लगभग उनतीस स्थानों में देवी पाण्डालों को सजाया गया है। जहां सोमवार को देवी प्रतिमाएं स्थापित की जायेंगी।

देवी मंदिरों में रंगाई पुताई के साथ की गई बिजली की आकर्षक सजावट
देवी पाण्डालों के अलावा कस्बा के प्राचीनतम बड़ी देवी मंदिर, ओरी तालाब स्थित छोटी देवी मंदिर सहित अन्य देवी मंदिरों में रंगाई पुताई के साथ ही बिजली की आकर्षक सजावट की गई है। जहां नौ दिनों तक भारी संख्या में देवी भक्तों का तांता लगा रहेगा।

सजाई गई मुर्तियां।
सजाई गई मुर्तियां।

साफ-सफाई के दिए गए निर्देश
नवरात्रों को ध्यान में रखते हुए नगरपालिका अध्यक्ष रामकिशोर श्रीवास और अधिषासी अधिकारी सुनील कुमार दोहरे ने पालिका के सफाई एवं विद्दुत कर्मचारियों की आवश्यक बैठक कर सभी मंदिरों एवं देवी पाण्डालों के आसपास सफाई तथा रोशनी की व्यवस्था चुस्त दुरुस्त रखने एवं आवारा घूम रहे गंदे जानवरों को नियंत्रित करने के निर्देश दिए हैं।