हमीरपुर में प्रधान के समर्थन में महिलाओं का प्रदर्शन:फर्जी मुकदमे में फंसाने का लगाया आरोप, DM कार्यालय का किया घेराव

हमीरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमीरपुर में प्रधान के समर्थन में महिलाओं का प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
हमीरपुर में प्रधान के समर्थन में महिलाओं का प्रदर्शन।

हमीरपुर जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर आज सैकड़ों महिलाओं ने प्रदर्शन करते हुए अपने गांव के प्रधान को बेकुसूर बताया और चुनावी रंजिश में फंसाए जाने की बात कही। जिस पर अपर जिला अधिकारी ने आश्वासन दिया कि किसी बेगुनाह को नहीं फंसाया जाएगा और मामले की निष्पक्ष जांच होगी।

विपक्षी पर लगाया फंसाने का आरोप

जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन करने वाली सभी महिलाएं लल्पुरा थाना क्षेत्र में बहदीना अछपुरा डांडा गांव की रहने वाली थीं। जिनका कहना था कि उनके गांव का प्रधान शिवेंद्र सिंह सरल और सज्जन व्यक्ति हैं। प्रधानी चुनाव के दौरान गोलू चौबे ने भी अपना प्रत्याशी खड़ा किया था, जो हार गया था। तब से गोलू चौबे शिवेंद्र सिंह से रंजिश मान बैठा है और उन्हें फंसाने की कोशिश कर रहा था।

घायल की इलाज के दौरान हुई थी मौत

बीती 2 दिसंबर को गोलू चौबे गांव में अवैध निर्माण करा रहा था, जिस पर प्रधान को बुलाया गया। लेकिन प्रधान गांव में नहीं थे तो प्रधान के बड़े भाई मौके पर चले गए। इसी दौरान अवैध निर्माण को लेकर मारपीट हुई। जिसमें निर्माण कार्य में लगा राजमिस्त्री घायल हो गया। उसे कानपुर रेफर किया गया और इलाज के दौरान राजमिस्त्री मुन्ना की मौत हो गई।

इस मामले को लेकर 7 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था, जिसमें प्रधान का नाम भी शामिल किया गया है। जबकि प्रधान मौके पर नहीं थे। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस आए दिन प्रधान के घर पहुंच जाती है और अभद्रता करती है। इसे प्रशासन रोके और मामले की निष्पक्ष जांच कराए।

प्रशासन ने समझा-बुझाकर वापस भेजा

बड़ी तादाद में जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन करने पहुंचीं महिलाओं को देख कर पुलिस और प्रशासन हरकत में आ गया और गांव से आए लोगों को समझा-बुझाकर वापस गांव भेज दिया। इस मामले में अपर जिलाधिकारी रमेश चंद्र का कहना है ग्रामीणों ने पुलिस पर बिना वजह परेशान करने का आरोप लगाया है, जबकि पुलिस पहले से ही निष्पक्ष जांच कर रही है, लेकिन फिर भी ग्रामीणों को आश्वस्त किया गया है कि किसी भी निर्दोष को हत्या के मामले में फंसाया नहीं जाएगा।