हमीरपुर में स्कूली बच्चों को नहीं मिली किताबें:खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में लगा है किताबों का ढेर, नहीं किया गया वितरण; छात्रों ने कहा- कैसे करें पढ़ाई

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमीरपुर में स्कूली बच्चों को न - Dainik Bhaskar
हमीरपुर में स्कूली बच्चों को न

हमीरपुर जिले के मौदहा तहसील क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चों को बांटने वाली किताबें खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में रखी हैं। शिक्षा का सत्र आधा निकल जाने के बावजूद अभी तक किताबों का वितरण नहीं किया गया है। वहीं जब किताबों के वितरण को लेकर बीएसए से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने कोई जवाब देने से इनकार कर दिया। छात्र-छात्राओं का कहना है कि टीचरों से किताबों के लिए कई बार कहा गया, लेकिन किताबें नहीं मिलीं। ऐसे में हम क्या पढ़ें और कैसे इग्जाम देंगे।

सर्व शिक्षा अभियान के तहत किया जाता है वितरण

बता दें कि शिक्षा का अधिकार कानून लागू होने के बाद प्रदेश सरकार द्वारा ‘सर्व शिक्षा अभियान’ चलाया गया। इस अभियान के तहत सरकारी, अर्ध सरकारी स्कूलों के बच्चों को कक्षा एक से आठ तक मुफ्त किताबें, बस्ते, ड्रेस, जूते-मोजे और मध्यान्ह भोजन आदि का वितरण किया जाता है। यही नहीं सर्दियों में बच्चों को स्वेटर दिया जाता है।

खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में पड़ी हैं किताबें

वहीं हमीरपुर जिले के मौदहा तहसील क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षा का सत्र आधा निकल जाने के बाद अभी तक किताबों का वितरण नहीं हो सका है। किताबों का ढेर खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में लगा हुआ है। अधिकारियों की लापरवाही से पुस्तकें यहां पड़ी हुई हैं। छात्र अजय कुमार और छात्रा अंशिका ने बताया कि टीचरों से किताबों के लिए कई बार कहा गया, लेकिन किताबें नहीं मिलीं। ऐसे में हम क्या पढ़ें और कैसे इग्जाम देंगे।

कैसे कराई जाए पढ़ाई

अर्ध सरकारी विद्यालय नेशनल इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य कौशल किशोर ने बताया कि स्कूल को किताबें उपलब्ध नहीं कराई गई हैं। यह किताबें बाजार में भी उपलब्ध नहीं हैं। ऐसे में पढ़ाई कैसे कराई जाए। पुस्तकें उपलब्ध कराने के लिए कई बार रिमाइंडर दिया जा चुका है, जिसका जवाब तक नहीं मिला। वहीं जब किताबों के वितरण को लेकर बीएसए से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने कोई जवाब देने से इनकार कर दिया।

खबरें और भी हैं...