हमीरपुर में 1 दिन के अधिकारी बने टॉपर्स:DM, SDM समेत SP की कुर्सी पर बैठे, लोगों की समस्याएं सुनी

हमीरपुर2 महीने पहले

हमीरपुर में बुधवार को टॉपर स्टूडेंट्स को एक दिन के लिए जिले की कमान सौंपी गई है। इस दौरान स्टूडेंट्स को जिलाधिकारी और एसपी सहित अन्य अधिकारियों ने अपनी कुर्सी सौंप दी। वो लोग खुद बगल की कुर्सी में बैठ गए।

1 दिन के अधिकारी बने स्टूडेंट्स ने फरियादियों की फरियाद सुनी। उस पर संबंधित अधिकारियों को आदेश भी दिया। टॉपर स्टूडेंट्स के हाथ में खुद के जिले की कमान मिली।

संबंधित अधिकारियों को दिए निर्देश

सुमेरपुर ब्लॉक क्षेत्र में देव गांव की रहने वाली अर्पिता सेंघर जिलाधिकारी की कुर्सी पर बैठी। वहीं मौदहा कस्बे की रहने वाली राधिका गुप्ता ने पुलिस अधीक्षक का कार्यभार संभाला। हमीरपुर मुख्यालय की रव्यांशी ओमर मुख्य विकास अधिकारी बनी। सुमेरपुर की रहने वाली श्रष्टि माला को अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत बनाया गया।

सदर कोतवाली की ही अर्पिता सिंह सदर एसडीएम बनी। इस दौरान इन सभी टॉपर स्टूडेंट्स ने ना सिर्फ फरियादियों की फरियाद सुनी। बल्कि उनकी एप्लीकेशन पर संबंधित अधिकारियों को आदेश भी दिया।

बच्चे अधिकारियों की कार्यशैली जाने

ठीक इसी तरह से जिले के सभी तहसीलों में टॉपर स्टूडेंट्स को 1 दिन का एसडीएम बनाया गया है। एक दिन की जिलाधिकारी बनी अर्पिता सेंगर का कहना है उसका सपना है की वो आईएएस ऑफिसर बने। फिर लोगों के काम आ सके। इस मौके पर हमीरपुर जिलाधिकारी डॉ. चंद्रभूषण त्रिपाठी ने कहा की यह युग महिला सशक्तिकरण का युग है।

महिलाएं आगे आए और समझें की अधिकारी की कुर्सी पर बैठने के बाद उनके सामने किस किस तरह की समस्याएं आती हैं। अधिकारियों की कार्यशैली कैसी होती है। उसी के उद्देश्य से बुधवार को सभी कार्यालयों में स्टूडेंट्स को बैठाया गया। इस दौरान आए हुए स्टूडेंट्स से सलाह भी ली गई।

खबरें और भी हैं...