हमीरपुर में फसलों का काल बने आवारा पशु:रात में नेशनल हाईवे पर दुर्घटनाओं का बन रहे कारण, किसानों को पलायन के लिए हो रहे मजबूर

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमीरपुर में किसानों व नेशनल हाईवे से गुजरने वालों के लिए सिरदर्द बने आवारा पशु। - Dainik Bhaskar
हमीरपुर में किसानों व नेशनल हाईवे से गुजरने वालों के लिए सिरदर्द बने आवारा पशु।

हमीरपुर में आवारा पशु किसानों के लिए सिरदर्द बन गए हैं। किसान उनसे इतने भयभीत है कि वह लोग पलायन के लिए मजबूर हो चुके हैं। वह लोग खेतों में फसलों की बुवाई करने से भी डरते हैं। क्योंकि आवारा पसु खेत में घुसकर फसलें चर डालते हैं। इसके अलावा रात के वक्त इन पशुओं के चलते नेशनल हाईवे पर कई हादसे भी होते हैं। जिनमें कई लोगों की अब तक जान जा चुकी है।

नेशनल हाईवे 34 पर होते है हादसे

हमीरपुर जिले के लगभग सभी गांवो सहित नेशनल हाईवे 34 और सम्पर्क मार्गों पर रात में आवारा पशुओं का राज देखने को मिल जाता है। जिसके चलते आए दिन होने वाले सड़क हादसों में लोगों की जानें जाती रहती हैं। हालांकि सड़क हादसों में गायों की भी मौत होती है। संबंधित अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। जबकि पशुओं की समस्या को लेकर किसान परेशान हैं। कुछ क्षेत्रों में किसान अपनी फसलों की बुआई करने से डर रहे हैं। क्योंकि पशुओं के कारण लगातार किसानो की फसलें चौपट हो रही हैं। इस साल भी किसानों की फसलें चौपट हुई तो किसानों को पलायन करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

क्या बोले अधिकारी

इस मामले में मुख्य विकास अधिकारी कमलेश कुमार वैश्य ने बताया कि जनपद में कुल तीन सौ से ज्यादा गौशालाऐं हैं। जिनमे वृहद गौशाला और कांजी हाउस के साथ ही गौसंरक्षण केंद्र शामिल हैं। जबकि जनपद में लगभग 38 हजार अन्ना पशु हैं। जिनमें से 36 हजार अन्ना पशु गौशालाओं में बंद किए जा चुके हैं। शेष को भी बंद करने का काम किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...