पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीरपुर में महिला सिपाही ने पिया जहरीला पदार्थ:ट्रांसफर किए जाने से नाराज थी, प्रभारी पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, कहा- जान-बूझकर परेशान किया जाता है

हमीरपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हमीरपुर में महिला सिपाही ने पि - Dainik Bhaskar
हमीरपुर में महिला सिपाही ने पि

हमीरपुर जिले में बुधवार को एक महिला सिपाही ने ट्रांसफर किए जाने से आक्रोशित होकर जहरीला पदार्थ पी लिया। आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। ठीक होने के बाद उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। महिला आरक्षी ने अपने बयान का एक वीडियो वायरल किया है, जिसमें विभागीय उत्पीड़न से क्षुब्ध होकर जहरीला पदार्थ पीने का आरोप लगाया है। एसपी ने मामले की जांच सीओ सदर को सौंपी है।

किराए का आवास लेकर रहती है महिला सिपाही

डीसीआरबी में तैनात महिला सिपाही प्रिया चौधरी विवेक नगर मोहल्ले में किराए का आवास लेकर रहती है। बुधवार को प्रिया ने जहरीला पदार्थ पी लिया था। जानकारी होते ही प्रिया को तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के बाद हालत में सुधार होने पर प्रिया को डिस्चार्ज कर दिया गया। पुलिस महकमे की ओर से बताया गया कि डीसीआरबी प्रभारी द्वारा महिला सिपाही के विरुद्ध अनुशासनहीनता और लापरवाही की रिपोर्ट दी गई थी। जिस पर महिला सिपाही का स्थानांतरण डीसीआरबी शाखा से थाना चिकासी किया गया था। महिला सिपाही ने स्थानांतरण आदेश का अनुपालन नहीं किया और क्षुब्ध होकर ऑलआउट पी लिया, जिसे तत्काल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। हालत में सुधार होने पर अस्पताल से रिलीव कर दिया गया है।

जान-बूझकर परेशान किया जाता है

दोपहर तक विभागीय अधिकारियों की नजर में मामला शांत हो चुका था, लेकिन शाम होते-होते महिला सिपाही प्रिया चौधरी ने दो मिनट 50 सेकेंड का वीडियो वायरल करते हुए पूरी कहानी बयां की है। प्रिया ने विभागीय उत्पीड़न की कहानी रो-रोकर बताते हुए जहरीला पदार्थ पीने की बात स्वीकारी। प्रिया का आरोप है कि उसके साथ तैनात एक महिला सिपाही के पति भी विभाग में तैनात हैं। चार सालों से इस महिला सिपाही की कहीं ड्यूटी नहीं लगाई जाती, जबकि उसे जान-बूझकर परेशान किया जा रहा है। पति-पत्नी दोनों मिलकर उसके खिलाफ षड्यंत्र रचते हैं। इन्हीं से क्षुब्ध होकर उसने जान देने की नीयत से यह कदम उठाया था। वह परेशान हो चुकी है। उसे उच्चाधिकारियों के सामने अपनी बात रखने के लिए पेश होने तक से रोका जाता है।

सीओ सदर को सौंपी गई मामले की जांच

इस मामले को लेकर में हमीरपुर जिले के एएसपी अनूप कुमार ने बताया कि महिला सशक्तिकरण के तहत प्रिया चौधरी का ट्रांसफर चिकासी थाने में किया गया था, जहां इन्होंने अभी तक आमद नहीं कराई है और अब आरोप प्रत्यारोप की बात कह रही हैं। इस मामले की जांच सीओ सदर को सौंपी गई है.

खबरें और भी हैं...