• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Hamirpur
  • Horrific Accident In Hamirpur, 1 Killed, 9 Injured: Auto Full Of 10 Pilgrims Hit By High Speed Truck, Condition Of 5 Critical, Accident Happened Due To Lack Of Divider On National Highway 34

हमीरपुर में भीषण हादसा, 1 की मौत, 9 घायल:10 श्रद्धालुओं से भरे ऑटो को तेज रफ्तार ट्रक ने मारी टक्कर, 5 की हालत गंभीर; नेशनल हाइवे 34 पर डिवाइडर न होने से हुआ हादसा

हमीरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर की तलाश कर रही है। - Dainik Bhaskar
पुलिस आरोपी ट्रक ड्राइवर की तलाश कर रही है।

हमीरपुर में नेशनल हाइवे-34 पर शनिवार सुबह भीषण सड़क हादसा हो गया। जिसमें 1 की मौत हो गई। जबकि 9 लोग घायल हाे गए। 5 की हालत गंभीर होने पर उन्हें सदर अस्पताल रेफर किया गया है। सुमेरपुर थाना क्षेत्र के नारायणपुर गांव के पास 10 श्रद्धालुओं से भरे ऑटो को तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी। जिससे ऑटो पलट गया।

सवारियों में चीख-पुकार मच गई। आसपास के लोगों ने सभी को बाहर निकाला। लेकिन तब तक गेंदारानी (50) निवासी खरेहटा की मौत हो गई। हादसे की सूचना पर सुमेरपुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची। सभी घायलों को सुमेरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। हादसे के बाद ड्राइवर ट्रक लेकर फरार हो गया है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। बताया जा रहा है कि नेशनल हाइवे पर डिवाइडर न होने से हादसा हुआ है।

सभी घायलों को एंबुलेंस से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया।
सभी घायलों को एंबुलेंस से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया।

कुराना थानाक्षेत्र के रहने वाले हैं सभी घायल

दसे में पवन (27) पुत्र रामदास, कल्लो पत्नी रामदास (34), रामदुलारी (50) पत्नी मैयादीन, लीलावती (50) पत्नी रामदास, काजल (16) पुत्री रामपाल, रामदुलारी (50) पत्नी केशवदास, नीलू (22), ​​​​​​​पुत्र रामप्रकाश, पूनम पत्नी पवन और कौशल्या पत्नी रामदुलारे घायल हो गईं हैं। बताया जा रहा है कि सभी श्रद्धालु बांदा के झंझरी पुरवा में धार्मिक स्थल के दर्शन करने जा रहे थे। ऑटो रिक्शे पर सवार सभी लोग कुरारा थानाक्षेत्र के हरेहटा गांव के रहने वाले हैं।

घटनास्थल पर पुलिस ने लोगों से हादसे की जानकारी ली।
घटनास्थल पर पुलिस ने लोगों से हादसे की जानकारी ली।

हाइवे पर नहीं है डिवाइडर

नेशनल हाइवे 34 काे खूनी हाइवे के नाम से भी जाना जाता है। डिवाइडर न होने से यहां पर आए दिन हादसा होता है। ज्यादातर वाहनों की आमने-सामने टक्कर होती है। ऐसे में अगर डिवाइडर बन जाता है तो हादसा होने की संभावना कम हो जाएगी।

हाइवे पर डिवाइडर बनाने के लिए समाजसेवी संगठनों समेत स्थानीय लोगों ने कई बार आन्दोलन किया। लेकिन सुनवाई नहीं हुई। यहां पर अब तक हजारों लोगों की जान जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...