• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Hamirpur
  • The Work Of Giving Compensation To The Affected Will Start, The Money Will Reach The Account Directly, The Tender Will Be Issued After Two Months

अटारी से मंडी वाया हमीरपुर-अवाहदेवी बन रहा नेशनल हाईवे:प्रभावितों को मुआवजा देने का काम शुरू, सीधे खाते में पहुंचेंगे रुपए, दो महीने बाद जारी होगा टेंडर

हमीरपुर2 महीने पहलेलेखक: विक्रम ढटवालिया
  • कॉपी लिंक

अटारी-मंडी वाया हमीरपुर-अवाहदेवी एनएच-70 के प्रभावितों को मुआवजा मिलना शुरू हो गया है, लेकिन सॉफ्टवेयर में तकनीकी दिक्कत से कुछ देर हो सकती है। इसमें दो माह तक का समय लग सकता है। 1100 करोड़ रुपए से बनने वाले 110 किलोमीटर लंबे टू-लेन में 400 करोड़ मुआवजा दिया जाएगा। तीन अलग-अलग चरणों में इसका निर्माण होगा। लेकिन जब तक मुआवजे की राशि का तय एक हिस्सा भूमि मालिकों को नहीं मिलता टेंडर प्रक्रिया में देरी हो सकती है।

यह मार्ग पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल की गृह पंचायत समीरपुर से होकर मंडी को जोड़ेगा इसीलिए अब इसके टेंडर प्रोसेस से संबंधित तमाम औपचारिकताएं भी जोर-शोर से शुरू हो गई हैं। हमीरपुर-अवाहदेवी के बीच कुल 19.5 किमी की लंबाई का यह टू लेन पहाड़ी क्षेत्र से होकर गुरजेगा। इसीलिए अभी तक सड़क चौड़ी नहीं हो पाई है। क्षेत्र में सबसे ज्यादा 2728 भूमि मालिक शामिल हैं, जिन्हें तकरीबन 70 करोड़ का मुआवजा दिया जाएगा। 10 करोड़ रुपए की पहले किश्त देने का काम शुरू हो गया है।

मुआवजे को देने के लिए सारी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं। भूमि मालिकों के बैंक अकाउंट में अब यह राशि ऑनलाइन सिस्टम से पहुंचनी भी शुरू हो गई है। दीगर बात है कि हमीरपुर से पारसू, पारसू से कोटली फिर कोटली से मंडी तक तीन अलग-अलग हिस्सों में बंट कर इस टू-लेन का निर्माण होगा। अवाहदेवी से आगे धर्मपुर से होकर यह टू-लेन जाएगा।

दो माह में मिल जाएगा प्रभावितों को मुआवजा
डीसी देव श्वेता बनिक का कहना है कि सॉफ्टवेयर में जो तकनीकी खामी बैठक में चर्चा में आई है। उसका हल निकाला जाएगा। उम्मीद यही है कि 2 माह के भीतर मुआवजे की राशि सॉफ्टवेयर के माध्यम से प्रभावितों के खाते में पहुंच जाएगी।

खबरें और भी हैं...