फोटो शेयर कर सिपाही ने बीमार होने का दिया सबूत:इंस्पेक्टर ने नहीं दी थी छुट्टी; कहा- तुम्हें दुनिया का कोई डॉक्टर नहीं ठीक कर पाएगा

सरीला (हमीरपुर)2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिपाही के पिता ने पुलिस लाइन की एक व्हाट्सएप ग्रुप में मैसेज लिखा है। जिसमें उन्होंने इंस्पेक्टर को इंसानियत का पाठ पढ़ाया। - Dainik Bhaskar
सिपाही के पिता ने पुलिस लाइन की एक व्हाट्सएप ग्रुप में मैसेज लिखा है। जिसमें उन्होंने इंस्पेक्टर को इंसानियत का पाठ पढ़ाया।

जरिया थाने में तैनात एक बीमार सिपाही को अवकाश देने से इंस्पेक्टर ने मना कर दिया। पीड़ित ने बताया कि जब वह इंस्पेक्टर रामआसरे सरोज के पास छुट्टी मांगने के लिए गया तो उसे यह कहकर भगा दिया गया कि तुम्हें दुनिया का कोई भी डॉक्टर ठीक नहीं कर पाएगा।

बीमारी की हालत में सिपाही कौशांबी में खेलकूद प्रतियोगिता में पहुंचा, जहां उसकी हालत ज्यादा बिगड़ गई। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में ही सिपाही ने अपने पिता के साथ बैठकर एक फोटो जरिया पुलिस फैमिली ग्रुप में डाल दी। इसमें सिपाही के पिता ने अवकाश देने में आनाकानी करने पर इंस्पेक्टर को भला बुरा कहा। यह फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

6 दिन पहले सिपाही छुट्टी मांगने गया था
जरिया थाने के सरीला चौकी में तैनात सिपाही श्रवण कुमार टायफाइड और प्लेटलेट्स कम होने के चलते बीमार थे। उन्होंने बताया, "18 सितंबर को मैं इंस्पेक्टर रामआसरे सरोज के पास छुट्टी लेने गया था। उस दौरान इंस्पेक्टर रामआसरे सरोज ने कहा कि आपको दुनिया में कोई डॉक्टर ठीक नहीं कर सकेगा और अवकाश नहीं दिया।"

सिपाही ने अस्पताल में बैठकर अपने पिता के साथ फोटो शेयर कर अपने बीमार होने का सुबूत दियाय़
सिपाही ने अस्पताल में बैठकर अपने पिता के साथ फोटो शेयर कर अपने बीमार होने का सुबूत दियाय़

तबीयत बिगड़ने होने पर अस्पताल में भर्ती
सिपाही को 20 सितंबर को कौशांबी के लिए रवाना होना था। वहां पर 21 तारीख को पुलिस खेलकूद प्रतियोगिता में हिस्सा लेना था। जानकारी के मुताबिक, 20 सितंबर को सिपाही श्रवण कुमार कौशांबी के लिए निकले। वहां पहुंचने पर उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई। उन्होंने फोन कर अपने पिता को बुलाया। पिता ने उन्हें कौशांबी के पूर्णिमा अस्पताल में भर्ती कराया।

पिता ने ग्रुप में लिखा था यह मैसेज
अपनी बीमारी का सबूत देने के लिए सिपाही ने अस्पताल से ही एक फोटो पोस्ट की। पिता के साथ ली गई फोटो को जरिया पुलिस फैमिली व्हाट्सएप ग्रुप में भेजा। जिसमें पिता की तरफ से कैप्शन लिखा, "श्रीमान जी आरक्षी की तबीयत टायफाइड व प्लेटलेट्स कम होने से खराब हुई। इलाज के लिए 18 सितंबर को आरक्षी आपके पास अवकाश लेने आया था। आपके द्वारा अवकाश देने से इंकार कर दिया गया। श्रीमान जी कृपया किसी के बच्चे को ऐसा न कहा कीजिए कि किसी को अपने इलाज का सबूत देना पड़े।"

यह वही अस्पताल है, जहां पर सिपाही भर्ती है।
यह वही अस्पताल है, जहां पर सिपाही भर्ती है।

तीन दिनों से अस्पताल में चल रहा है इलाज
कौशांबी में ही पिछले तीन दिनों से सिपाही का उपचार चल रहा है। वाट्सएप स्क्रीनशॉट वायरल होने से पुलिस महकमे में गहमा गहमी का माहौल है। इस मामले में अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि व्हाट्सएप पोस्ट को अभी देखा नहीं है। अगर कुछ ऐसा पोस्ट है तो उसकी जांच कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...