हापुड़ में 11 दिसंबर को होगी बसपा की रैली:ब्राह्मणों को साधने के लिए सतीश चंद्र मिश्रा मैदान में उतरेंगे

हापुड़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
11 दिसंबर को हापुड़ आएंगे  सतीश चंद्र मिश्रा। - Dainik Bhaskar
11 दिसंबर को हापुड़ आएंगे सतीश चंद्र मिश्रा।

विधानसभा चुनाव को लेकर बसपा भी चुनावी रण में उतर चुकी है। वेस्ट यूपी को साधने के लिए हापुड़ से पार्टी के महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा 11 दिसम्बर को चुनावी बिगुल बजाने आएंगे। जिसको लेकर पार्टी ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। मेरठ मंडल सहित अन्य मंडल के कार्यकर्ता भी हापुड़ पहुंचकर रैली को सफल बनाएंगे। हापुड़ की चुनावी रैली में पार्टी की नीतियों के अलावा बसपा सरकार में किये गये विकास कार्यों का भी लेखा जोखा दिया जाएगा।

6 जिलों में जायेंगे सतीश चंद्र मिश्रा

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा 8 दिसंबर को सहारनपुर, नौ दिसंबर को हाथरस, 10 दिसंबर को बिजनौर में नेहटौर विधानसभा, 11 दिसंबर को हापुड़, 12 दिसंबर को आगरा देहात, 13 दिसंबर को बरेली के फरीदपुर में चुनावी सभा कर ब्राह्मणों को साधेंगे।

बसपा की राजनीति का केंद्र है हापुड़

हापुड़ शुरू से ही बसपा की राजनीति का मुख्य केंद्र है। साल 2011 सितम्बर में तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने हापुड़ को गाजियाबाद से अलग कर पंचशील नगर नाम से घोषित किया था। साल 2012 और 2017 में बसपा सरकार नहीं बनी थी। लेकिन उसके बाद भी वर्तमान में बसपा का धौलाना विधानसभा पर एक विधायक है। साथ ही 2020 में जिला पंचायत के चुनाव में 6 जिला पंचायत सदस्य हैं। बाबूगढ़ नगर पंचायत अध्यक्ष और गढ़ नगर पालिका अध्यक्ष सीट भी बसपा के खाते में है। जिसको लेकर ये माना जाता है कि हापुड़ में बसपा की स्थिति मजबूत है।

हापुड़ में है आईएएस-पीसीएस कोचिंग सेंटर

वेस्ट यूपी के प्रमुख जिलों में शामिल हापुड़ में बसपा सरकार में सरकारी आईएएस पीसीएस कोचिंग सेंटर बनवाए गए थे। जिसमें प्रदेश भर के छात्र छात्राएं निशुल्क कोचिंग लेते हैं। इसके आलावा कई गांव में सरकारी अस्पताल और स्कूल का निर्माण भी बसपा सरकार में किया गया। काशीराम आवासीय योजना में भी लोगों को आवासीय सुविधा दी गई थी।

11 दिसम्बर को होगी रैली

मंगलवार को घोषित कार्यक्रम के अनुसार हापुड़ के रामलीला मैदान में 11 दिसम्बर को पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा रैली कर ब्राह्मण समाज को साधने के लिए हापुड़ आएंगे। जिसमे मेरठ मंडल में शामिल जिले नोएडा, गाजियाबाद, बुलन्दशहर, मेरठ, हापुड़ के सर्व समाज के हजारों कार्यकर्ताओं के जुटने की संभावना है।