सरकारी गोदाम से राशन की कालाबाजारी:हरदोई में गरीबों का निवाला निगल रहे सरकारी कर्मचारी, रिटायर्ड गोदाम प्रभारी भी शामिल

हरदोई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरदोई यूपी में इन दिनों राशन कार्ड धारक असमंजस की स्थित में हैं। सरकारी फरमान के मुताबिक अपात्रों के सरकारी राशन लेने पर उन्हें भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उनसे रिकवरी होगी और इसकी पात्रता की श्रेणी में आने के लिए इलिजबिलिटी बेहद निम्न दर्ज की है। लेकिन यही राशन अगर सरकारी कर्मचारी चुराए तो तो शासन प्रशासन मूक दर्शक बनकर सिर्फ तस्वीर देखता है और चुप्पी साध लेता है। हरदोई में एक वीडियो सामने आया है। जहां राशन के गोदामों से चोरी की जाती है।

कोटेदारों को कम राशन दिया जाता है
बताया गया ये वीडियो हरपालपुर स्थित आवश्यक वस्तु निगम के गोदाम का है। जहां से कोटे पर भेजे जाने वाले राशन में मजदूरों की मदद से परखी लगाकर राशन निकाला जा रहा है। ट्रक में भरे गेहूं के बोरे में परखी लगाकर प्रति बोरा पांच से छः किलोग्राम गेहूं निकालने का औसत है। इस तरह गोदाम पर होने वाली घटतौली से कोटेदारों को कम राशन दिया जाता है। जिसके बाद कोटेदार आम आदमी को घटतौली करकर उनके निवालों पर डांका डालता है।

गोदाम पर ही राशन का किया जा रहा कालाबाजारी।
गोदाम पर ही राशन का किया जा रहा कालाबाजारी।

ये काम रिटायर्ड गोदाम प्रभारी कर रहे हैं
सूत्रों की माने तो हरपालपुर के गोदाम प्रभारी प्रदीप कुमार हर माह कई लाख रुपये का चूना सरकार को लगा रहे हैं। यही नहीं उन्होंने एक रिटायर्ड गोदाम प्रभारी को ये घिनौना काम करने के लिए रख रखा है। बताया गया कि विपिन चौहान करीब 10 वर्ष पूर्व रिटायर हो चुके हैं, पर कालाबाजारी का भूत सिर से नहीं उतरा। रिटायरमेंट के बाद भी वे निरंतर गोदाम पर अवैध रूप से उपस्थित रहते हैं, और मजदूरों द्वारा परखी लगाकर निकाले गए राशन की कालाबाजारी का जिम्मा संभाल रहे हैं। हालंकि इस मसले पर जिला पूर्ति अधिकारी ने कुछ भी बोलने से साफ इनकार कर दिया है। सरकार के सिर्फ पात्रों को दिए जाने वाले राशन के दावे पर बट्टा लगा रहा है।

खबरें और भी हैं...