पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाथरस में निजी नर्सिंग होमों पर छापेमारी:डेंगू के मरीज का किया जा रहा था गलत इलाज, सीएमओ ने नोटिस जारी कर हॉस्पिटल से मांगा जवाब

हाथरस12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हाथरस में निजी नर्सिंग होमों प - Dainik Bhaskar
हाथरस में निजी नर्सिंग होमों प

हाथरस जिले में बढ़ रहे डेंगू के मामलों को लेकर स्वास्थ्य विभाग काफी सतर्क है। डेंगू के जो भी मरीज सामने आ रहे हैं, उनकी निगरानी की जा रही है। बुधवार को शहर के हतीसा मोहल्ले में एक डेंगू रोगी का हाल जानने अपर स्वास्थ्य निदेशक डॉ. एसके उपाध्याय, सीएमओ डॉ. सीएम चतुर्वेदी के साथ उसके घर पर पहुंचे। यहां मरीज नहीं मिला। परिजनों की जानकारी के बाद दोनों अधिकारी कृष्णा हेल्थ केयर हॉस्पिटल पहुंचे। यहां डेंगू के मरीज का उपचार हो रहा था। हॉस्पिटल द्वारा डेंगू के रोगी के बारे में स्वास्थ्य विभाग को सूचना तक नहीं दी गई। इसे लेकर दोनों अधिकारियों ने नाराजगी जताई।

अस्पताल में डेंगू के मरीज का किया जा रहा था गलत उपचार

एसीएमओ डॉ. नरेश कुमार, मुरसान सीएचसी प्रभारी डॉ. वरुण चौधरी ने कृष्णा हेल्थ केयर हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों का ब्यौरा लिया। एसीएमओ डॉ नरेश कुमार ने बताया कि अस्पताल में भर्ती मरीजों को क्या उपचार दिया जा रहा है, इस बारे में अस्पताल प्रशासन द्वारा कोई जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई है। टीम के पहुंचने पर ही यहां डॉ. सुमित कपूर आए थे, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि अस्पताल में नर्स व अन्य स्टाफ ही रोगियों का उपचार कर रहे हैं।

बिना लाइसेंस चलाया जा रहा था मेडिकल क्लीनिक

एसीएमओ डॉ. नरेश कुमार ने बताया कि इस पूरे मामले की जांच की जा रही है। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसी के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद एसीएमओ व एमओआईसी मुरसान हतीसा स्थित श्रीकृष्णा क्लीनिक पर पहुंचे। यहां रोगियों का उपचार बिना किसी लाइसेंस के किया जा रहा है। यहां मिले डॉ. वीके यादव से टीम ने पूछताछ की और नोटिस लेकर स्पष्टीकरण मांगा है।

अस्पताल को नोटिस जारी की गई

सीएमओ डॉ. सीएम चतुर्वेदी ने बताया कि कृष्णा हेल्थ केयर हॉस्पिटल में डेंगू के मरीज का उपचार गलत तरीके से किया जा रहा था, जबकि सभी निजी अस्पताल संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि उनके यहां अगर कोई डेंगू का मरीज आता है तो उसकी सूचना हमें दें, लेकिन ऐसा कृष्णा हेल्थ केयर हॉस्पिटल प्रशासन द्वारा नहीं किया गया। इसे लेकर नोटिस देते हुए स्पष्टीकरण मांगा गया है। आगे की कार्रवाई जांच के आधार पर की जाएगी।

खबरें और भी हैं...