हाथरस में नाबालिग को भगाने के आरोपी को सजा:हुई सात साल की सजा, लगाया गया जुर्माना; न देने पर होगा अतिरिक्त कारावास

हाथरस8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हाथरस में नाबालिग को भगाने के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा। - Dainik Bhaskar
हाथरस में नाबालिग को भगाने के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा।

हाथरस में न्यायालय ने नाबालिग को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने के एक मामले आरोपी को दोषी पाते हुए सात साल की सजा सुनाई है। साथ ही जुर्माना भी लगाया है। जिसे न भरने पर अतिरिक्त कारावास काटना होगा।

बहला-फुसलाकर बच्ची को ले गया साथ

पीड़ित पक्ष के मुताबिक थाना सिकंदराराऊ के एक गांव में 20 मार्च 2015 को थाने में शिकायत करते हुए न्याय बताया कि उसकी बहन(15) को सुबह करीब 11 बजे ओमवीर बहला-फुसलाकर ले गया है। पुलिस ने उसकी रिपोर्ट दर्ज कर जांच की। बाद में आरोप-पत्र न्यायालय में दाखिल किया। निचली अदालत के बाद जांच-पड़ताल में सेशन न्यायालय के समक्ष सरकारी राजपाल सिंह दिशवार द्वारा प्रस्तुत किए गए गवाह सबूतों के आधार पर न्यायालय ने आरोपों को सही पाते हुए आरोपी को दोषी माना है।

25000 जुर्माना न देने पर होगी 6 महीने का अतिरिक्त कारावास

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (विशेष न्यायाधीश पॉक्सो अधिनियम) प्रथम प्रतिभा सक्सेना ने सजा के बिंदु पर ओमवीर को अन्तर्गत धारा 363 सात साल के कठोर कारावास एवं 25000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न देने पर 6 महीने का अतिरिक्त साधारण कारावास भोगने का आदेश भी किया है।