जालौन में 6 महीने बाद मिला विनय को इंसाफ:आरोपी दरोगा के खिलाफ दर्ज हुआ केस, पुलिस से परेशान होकर घर में लगा ली थी फांसी

जालौन7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दरोगा अभिषेक के खिलाफ दर्ज हुआ केस। - Dainik Bhaskar
दरोगा अभिषेक के खिलाफ दर्ज हुआ केस।

जालौन की उरई कोतवाली क्षेत्र में तैनात मंडी चौकी इंचार्ज अभिषेक कुमार सिंह के खिलाफ उरई कोतवाली में युवक को आत्महत्या के लिये उकसाने का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मुकदमा पीड़ित की मां की तहरीर पर 6 महीने बाद दर्ज किया गया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

झूठे केस में फंसा दिया था पुलिस ने

मामला उरई कोतवाली क्षेत्र के इंदिरा नगर का था। यहां के रहने वाले विनय रायकवार ने 7 मई की रात में पुलिस उत्पीड़न से तंग आकर घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। विनय की मां ने बताया था कि 21 अप्रैल को उरई कोतवाली के मंडी चौकी प्रभारी ने आर्म्स एक्ट में विनय को झूठा पकड़कर जेल भेज दिया था। जैसे-तैसे विनय को जमानत पर छुड़ाया गया था।

घर आकर करता था परेशान

जमानत पर छूटने के बाद मंडी चौकी प्रभारी अभिषेक लगातार घर आकर विनय को परेशान करते थे। उसे फिर से झूठे केस में फंसाकर जेल भेजने की धमकी देते थे। जिससे परेशान होकर विनय ने 7 मई की रात में घर पर फंदे से झूलकर जान दे दी थी।

मां को आज मिला सुकून

मामले में विनय की मां का कहना है कि आज उसे सुकून मिला है। बेटे की मौत के आरोप में दरोगा अभिषेक के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। गुड्डी देवी का कहना है कि उसे कानून पर भरोसा है कि अभिषेक को सजा जरूर मिलेगी।

ये है पूरा मामला

जालौन में पुलिस प्रताड़ना से परेशान एक युवक ने फांसी लगाकर जान दे दी थी। इस घटना से पूरे घर में कोहराम मच गया था। जानकारी मिलने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। परिजनों ने जब मोर्चरी में शव को देखा तो उसकी आंखें गायब थीं। इसके बाद परिजनों ने शव को बीच सड़क पर रखकर जाम लगा दिया था। हंगामे की सूचना पर पुलिस बल मौके पर पहुंचा और उन्होंने परिजनों को समझाने का प्रयास किया था। परिजनों ने दरोगा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

खबरें और भी हैं...