• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jalaun
  • The Thug Had Got 18 Lakh Rupees In His Account, On Suspicion, The Victim Lodged A Complaint With The Cyber Cell; The Team Got The Money Back After Extracting The Account Details

जालौन में एमबीबीएस में एडमिशन दिलाने के नाम पर ठगी:ठग ने अपने खाते में मंगवाए थे 18 लाख रुपए, शक होने पर पीड़िता ने साइबर सेल में दर्ज करवाई शिकायत; टीम ने अकाउंट डिटेल निकलवाकर वापस करवाए रुपए

जालौन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालौन में ठगी का पता चलने के बाद पीड़िता ने पुलिस में दर्ज करवाई शिकायत। - Dainik Bhaskar
जालौन में ठगी का पता चलने के बाद पीड़िता ने पुलिस में दर्ज करवाई शिकायत।

जालौन में ऑनलाइन ठगी मामला सामने आया है। ठगों ने एक छात्रा को एमबीबीएस में एडमिशन दिलाने के नाम पर उसके खाते से 18 लाख रुपए अपने खाते में ट्रांस्फर करवा लिए। जब छात्रा को इसकी हुई तो उसने साइबर सेल में इसकी सूचना दी। जिसके बाद साइवर सेल और जालौन पुलिस ने उस छात्रा के खाते से जिस अकाउंट में रुपए ट्रांसफर हुए उसकी डिटेल निकाली। छात्रा के रुपए वापस कराए लेकिन आरोपी को पुलिस अभी गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

ऑनलाइन ठगी का शिकार हुई छात्रा मामला उरई कोतवाली क्षेत्र का है। जहां मोहल्ला पटेल की रहने वाली है उन्नति शर्मा। जिससे सौरभ नाम के एक साइबर ठग ने एमबीबीएस में दाखिला दिलवाने का वादा किया। बदले में उससे 18 लाख रुपयों की मांग की। उन्नति के पिता ने 28 जून 2019 को सौरभ के खाते में 99 हजार 996 रुपये भेज दिए। इसके बाद 19 जुलाई 2019 को आरटीजीएस के माध्यम से 14 लाख रुपये उसके खाते में ट्रांसफर किये। इसके बाद कई बार में कुल 18 लाख रुपये उसे दे दिए गए। दो महीने बीत जाने के बाद न तो सौरभ ने रुपए दिए और न ही उसे एमबीबीएस में प्रवेश दिलाया। उसके द्वारा दिया गया चेक भी फर्जी निकला।

परिजनों ने साइबर सेल में की शिकायत इसके बाद उन्नति ने साइबर सेल मामले की जानकारी दी। केस दर्ज होते ही पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गई। साइबर क्राइम टीम ने युवती की 18 लाख रुपये की धनराशि वापस करा दी। हालांकि आरोपी सौरभ अभी तक गिरफ्तार नहीं हो पाया है। एसपी जालौन रवि कुमार ने बताया कि साइबर ठगों को कभी भी बैंक संबंधी जानकारी न दें। नौकरी लगवाने के झांसे में सीवीवी नंबर, एटीएम, ओटीपी, लाटरी वाली फर्जी कॉल से सावधान रहें। ऐसे लोगों से कोई भी जानकारी साझा न करें। किसी के साथ भी साइबर ठगी होती है तो वह इसकी सूचना टोल फ्री नंबर 15527 व 112 पर कॉल कर पुलिस को दे।

खबरें और भी हैं...