जालौन में अवैध तरीके से आ रही बालू-गिट्‌टी:एमपी से लाई जा रही थी, डीएम ने जांच कर एसडीएम और कोतवाल को हटाया

जालौन4 महीने पहले

जालौन के माधौगढ़ में पिछले कई दिनों से मध्य प्रदेश के भिंड से अवैध तरीके से मौरंग और गिट्टी का परिवहन किया जा रहा था। जिसमें प्राइवेट कर्मचारियों के माध्यम से सरकारी कर्मचारी अवैध वसूली करके इस काम को करा रहे थे। इस खबर को भास्कर ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था।

इसका संज्ञान लेते हुए जालौन की जिलाधिकारी चांदनी सिंह ने माधौगढ़ एसडीएम और कोतवाल को तत्काल प्रभाव से हटाते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही एक समिति बनाकर इस मामले की जांच शुरू करा दी है। जिससे आगे और कार्रवाई की जा सके।

डीएम ने की मामले की जांच

बता दें, पिछले कई दिनों से जालौन के माधौगढ़ से सटे हुए मध्य प्रदेश के भिंड से अवैध तरीके से बालू और गिट्टी का परिवहन किया जा रहा था। जिसमें प्राइवेट लोगों के इस माध्यम से सरकारी कर्मचारी अवैध वसूली करके इन ट्रकों को निकलवाने का काम कर रहे थे।

इसकी शिकायत जिलाधिकारी चांदनी सिंह और एसपी रवि कुमार के पास भी पहुंच रही थी।जिसके बाद जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक रवि कुमार ने बुधवार देर रात को माधौगढ़ कोतवाली का निरीक्षण किया। साथ ही क्षेत्र में भ्रमण करते हुए अपने स्तर से मामले की जांच कराई।

डीएम ने पेट्रोल पंप पर लगे सीसीटीवी भी देखे।
डीएम ने पेट्रोल पंप पर लगे सीसीटीवी भी देखे।

पेट्रोल पंप के सीसीटीवी को देखा गया

जांच में पाया गया कि माधौगढ़ एसडीएम पुष्कर नाथ चौधरी और माधौगढ़ कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अजय अवस्थी द्वारा शिथिलता बरती गई। जिस पर एसडीएम पुष्कर नाथ चौधरी और कोतवाल अजय कुमार अवस्थी के खिलाफ डीएम-एसपी ने कार्रवाई करते हुए तत्काल प्रभाव से हटा दिया है।

साथ ही उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है। इस मामले में एक जांच समिति भी गठित की गई है। जो मौके पर जाकर इस मामले की जांच करेगी। साथ ही मध्य प्रदेश की सीमा से सटे पेट्रोल पंप के माध्यम से सीसीटीवी कैमरे को खंगाला जाएगा। जिससे यह पता चल सके कि किस प्रकार की गतिविधियां पिछले कई दिनों से हो रही हैं।

पुलिस अधिकारियों से बात कर मामले की जानकारी ली।
पुलिस अधिकारियों से बात कर मामले की जानकारी ली।

एसडीएम से मांगा स्पष्टीकरण

मामले में जालौन की जिलाधिकारी चांदनी सिंह ने कहा, इस मामले में बहुत ही सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। किसी प्रकार की अवैध वसूली की गई होगी और किसी भी सरकारी कर्मचारी की संलिप्तता पाई गई होगी तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं उन्होंने बताया, देर रात को पुलिस अधीक्षक रवि कुमार के साथ कोतवाली का निरीक्षण भी किया था।

जहां पर कई शिकायतें ऐसी उनके पास भी आई थी। जिस पर उन्होंने यह कार्रवाई की है। फिलहाल एसडीएम और कोतवाल से स्पष्टीकरण मांगा है। उन्हें तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। एसडीएम पुष्कर नाथ चौधरी की जगह अतिरिक्त उप जिलाधिकारी अंगद यादव को नया एसडीएम बनाया है।