गौमाता 'लक्ष्मी' की होगी तेरहवीं, VIDEO में देखें तैयारी:जौनपुर में 17 साल की गाय का निधन, विधि-विधान से हुआ अंतिम संस्कार; अब तेरहवीं का कार्ड बांटकर भोज में बुलाया

जौनपुरएक महीने पहले
गाय माता की तेरहवीं के लिए एक हजार से ज्यादा कार्ड बांटे गए हैं।

उत्तर प्रदेश के जौनपुर में एक तेहरवीं का कार्ड चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग इस कार्ड को देखकर प्रशंसा भी कर रहे हैं। यह कार्ड है गौमाता के निधन का। जिसकी तेरहवीं के लिए हजारों लोगों को बुलाया जा रहा है। जिले के तेजी बाज़ार के निवासी दिनेश जयसवाल के घर में 29 अगस्त को गाय का निधन हो गया था। गाय की उम्र 17 वर्ष थी। परिवार वाले गाय को लक्ष्मी के नाम से बुलाते थे।

वर्ष 2004 में हुआ था लक्ष्मी का जन्म

दिनेश जयसवाल बताते हैं कि वर्ष 2004 में 'लक्ष्मी' का जन्म घर में ही हुआ था। तब से ही पूरा परिवार 'लक्ष्मी' को घर का सदस्य मानता था। 17 वर्ष से घर के सभी लोग लक्ष्मी की देखभाल करते थे। वह बताते हैं कि लक्ष्मी के अलावा भी घर में 3 अन्य गौवंश हैं। बात करते हुए रुंधे गले से वह बताते हैं कि पिछले 29 अगस्त को बीमारी से लक्ष्मी का निधन हो गया। उनके बच्चे भी लक्ष्मी का दूध पीकर पले बढ़े।

हिंदू रीति रिवाज से कराया गया संस्कार

वह बताते हैं कि उनके घर में कुल 6 सदस्य हैं और 3 गोवंश है। कहते हैं कि लक्ष्मी की मौत के बाद से परिवार के लोग दुखी हैं। गाय की तेरहवीं संस्कार के लिए कार्ड छपवाया गया है। गाय की अंतिम क्रिया भी विधि विधान के साथ संपन्न की गई थी। हिंदू धर्म के संस्कार का पालन करते हुए उन्होंने पिंडी भी बांधी है। वे कहते हैं कि तेरहवीं का कार्ड भी बनवाया गया है। क्षेत्र में हजारों निमंत्रण कार्ड बांट दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...