जौनपुर में राष्ट्रीय लोक अदालत का हुआ आयोजन:लंबित 3854 मुकदमे हुए निस्तारित, 10 करोड़ रुपये की वसूली धनराशि पर हुआ समझौता

जौनपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जनपद न्यायाधीश जौनपुर एम.पी. सिंह के कुशल निर्देशन में जनपद न्यायालय परिसर जौनपुर में 14 मई 2022 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 50963 मामलों को निस्तारित किया गया। जिसमें कुल 1,09,363,698 रुपये की वसूली धनराशि पर समझौता किया गया।

दिलाई गई क्षतिपूर्ति

नोडल अधिकारी राष्ट्रीय लोक अदालत रमेश दूबे और शिवानी रावत के अनुसार 14 मई 2022 को आयोजत राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 50,963 मामलों का निस्तारित किया गया। जिसमें कुल 109363698 रुपये की वसूली धनराशि पर समझौता किया गया। पीठासीन अधिकारी मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण मनोज कुमार सिंह गौतम द्वारा कुल 56 मुकदमें लगाये गये जिनमें 23 वाद निस्तारित किये गये। जिस पर कुल 90,60,000 रुपये की धनराशि क्षतिपूर्ति याचीगण को दिलायी गयी।

विद्युत के 36 वाद निस्तारित

पारिवारिक न्यायालयो द्वारा 48 मुकदमों को निस्तारित किया गया जिसमें सायला को 26,80,000 की समझौता राशि प्रदान करायी गयी। न्यायालय विशेष न्यायाधीश ईसीएक्ट द्वारा विद्युत से सम्बन्धित कुल 36 वाद निस्तारित किये गये। सिविल न्यायालय द्वारा कुल 164 मामलों का निस्तारण किया गया जिसमें 47,29,889 रुपये का उत्तराधिकार प्रमाण पत्र जारी किया गया।

वैवाहिक विवाद भी हुए निस्तारित

प्री-लिटिगेशन स्तर पर जिला प्रशासन के विभिन्न विभागों एवं पुलिस विभाग द्वारा भी मामलों का निस्तारण कराया गया। जिसमें राजस्व न्यायालयों फौजदारी के 2486 वादों, राजस्व के 1123 वाद, और पुलिस विभाग सहित अन्य प्रकार के 42,300 एवं नगर पालिका द्वारा जलकर से सम्बन्धित 30 वादों, विद्युत बिल से सम्बन्धित 27 वादों का निस्तारण किया गया। वैवाहिक विवादों के निस्तारण हेतु प्राप्त 6 प्रार्थना पत्रों का सम्बन्धित पीठों द्वारा समाधान कराया गया। बैंक रिकवरी से सम्बन्धित 1137 प्री-लिटिगेशन वाद निस्तारित किये गये तथा बैंक सम्बन्धित ऋण 7,17,40,071 रुपये का समझौता किया गया।

दीप प्रज्जवलित कर लोक अदालत का शुभारम्भ

न्यायाधीश जौनपुर द्वारा मॉं सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर लोक अदालत का शुभारम्भ किया गया। इस अवसर पर परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश स्थायी लोक अदालत तथा सचिव पूर्णकालिक, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं अन्य समस्त न्यायिक अधिकारीगण उपस्थित रहे।