• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jaunpur
  • Complaint Filed Against 3 Including Ajay Devgan In Jaunpur : The Case Of Objectionable Depiction Of Lord Chitragupta In The Film 'Thank God', Hurt Religious Sentiments

अजय देवगन, सिद्धार्थ मल्होत्रा और इंदर कुमार पर परिवाद दर्ज:जौनपुर के वकील बोले- थैंक गॉड मूवी में धार्मिक भावनाएं आहत की गईं

जौनपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फिल्म अभिनेता अजय देवगन,सिद्धार्थ मल्होत्रा एवं निर्देशक इंदर कुमार पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने व अन्य धाराओं में परिवाद दर्ज किया। - Dainik Bhaskar
फिल्म अभिनेता अजय देवगन,सिद्धार्थ मल्होत्रा एवं निर्देशक इंदर कुमार पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने व अन्य धाराओं में परिवाद दर्ज किया।

जौनपुर में फिल्म अभिनेता अजय देवगन समेत 3 पर परिवाद दर्ज कर लिया गया है। चित्रगुप्त महाराज का मजाक उड़ाते हुए आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में एडिशनल मजिस्ट्रेट प्रथम मोनिका मिश्रा ने फिल्म अभिनेता अजय देवगन, सिद्धार्थ मल्होत्रा एवं निर्देशक इंदर कुमार पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने व अन्य धाराओं में परिवाद दर्ज किया। परिवादी हिमांशु श्रीवास्तव एडवोकेट के बयान के लिए कोर्ट ने 18 नवंबर तिथि तय की है।

फिल्म के ट्रेलर से आपत्ति
फिल्म अभिनेता अजय देवगन सिद्धार्थ मल्होत्रा और निर्देशक इंद्र कुमार के खिलाफ जौनपुर के दीवानी न्यायालय में परिवाद दायर किया गया है। मामला बॉलीवुड फिल्म थैंक गॉड से जुड़ा हुआ है। परिवादी का आरोप है कि फिल्म का जो ट्रेलर रिलीज हुआ है उसके दृश्य से धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं।

घटिया जोक्स और आपत्तिजनक शब्द
फिल्म थैंक गॉड के ट्रेलर में अजय देवगन आधुनिक पोशाक पहनकर भगवान चित्रगुप्त बने दिख रहे हैं। ट्रेलर में सिद्धार्थ मल्होत्रा का एक्सीडेंट होने के बाद उसके कर्मों का हिसाब किताब चित्रगुप्त भगवान के दरबार में होता है। फिल्म में अजय देवगन स्वयं को भगवान चित्रगुप्त बताते हुए घटिया जोक्स व आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं।

TRP के लिए भगवान का बनाया मजाक
परिवादी हिमांशु श्रीवास्तव ने बताया कि पुराणों में मान्यता है कि भगवान चित्रगुप्त न्याय के देवता है। कर्मों के हिसाब से पाप और पुण्य का लेखा जोखा तय करते हैं। जिसके अनुसार मनुष्य को दंडित या पुरस्कृत किया जाता है। फिल्म के ट्रेलर में भगवान चित्रगुप्त का अपमान किया गया है जिससे परिवादी व गवाहों की धार्मिक भावनाएं आहत हुईं।

मानसिक पीड़ा व कष्ट पहुंचा। घृणा, अपमान, नफरत पैदा करने का प्रयास किया गया। ज्यादा मुनाफा कमाने व टीआरपी बढ़ाने के लिए फिल्म में आपत्तिजनक दृश्य फिल्माया है जिससे सांप्रदायिक सौहार्द पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।