• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jaunpur
  • Father Held Children Hostage In Jaunpur: Husband Is Absconding On Charges Of Killing Wife, Children Missing For 6 Days; Mother in law Accuses Son in law Of Kidnapping

जौनपुर...बच्चों को ससुरालियों ने बनाया बंधक:पत्नी की हत्या के अरोप में फरार है पति, 6 दिन से लापता बच्चे; मायके वालों ने अपहरण का लगाया आरोप

जौनपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़ित परिजवार ने पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई है। - Dainik Bhaskar
पीड़ित परिजवार ने पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई है।

जौनपुर पुलिस कार्यालय में बच्चों को बंधक बनाए जाने और फरार पति को लेकर पीड़ितों ने पुलिस अधीक्षक अजय साहनी से मुलाकात की है। परिजनों का आरोप है कि बीते 13 सितंबर को प्रेमचंद्र ने प्रार्थी की बहन सुमन मौर्य की हत्या कर दी थी। इस मामले में प्रेमचंद्र के खिलाफ प्रयागराज के झूंसी थाने में 18 सितम्बर को हत्या का मामला दर्ज करवाया है। परिजनों का आरोप है कि बच्चे को किसी अज्ञात स्थान पर बंधक बना लिया गया है। 6 दिनों से बच्चों का कोई सुराग नहीं है और उन्हें बच्चों के साथ अनहोनी की आंशका है।

क्या है पूरा मामला?

सुमन की शादी प्रेमचंद्र के साथ 27 नवंबर 2011 को हुई थी। प्रेमचंद्र थाना महाराजगंज के अंदर सलामतपुर गांव का निवासी है। उनका आरोप है कि प्रेमचंद्र ने उनकी बहन की हत्या 13 सितंबर को कर दी थी। इस बात की जानकारी परिजनों को रिश्तेदार के माध्यम से मिली। प्रेमचंद्र और उसके परिवार ने इस घटना की जानकारी उन्हें नहीं दी। इसी बीच प्रयागराज झूसी से वह महिला का शव लेकर अपने गांव सलामतपुर चला आया। प्रेमचंद्र अपने साथ दो बच्चों आशु (8) प्रत्यूष (1) को भी गांव लेकर आया था।

मृतका के भाई ने थाने में दी गई तहरीर में कहा है कि उसकी बहन की हत्या उसके पति ने कर दी है।
मृतका के भाई ने थाने में दी गई तहरीर में कहा है कि उसकी बहन की हत्या उसके पति ने कर दी है।

18 सितम्बर को झूंसी थाने में दर्ज हुआ मुकदमा

घटना के संदर्भ में प्रयागराज के झूसी थाने में धारा 302 और 201 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है। मृतका के भाई ने थाने में दी गई तहरीर में कहा है कि उसकी बहन की हत्या उसके पति ने कर दी है। अंतिम संस्कार कर उसने सबूत भी मिटा दिया। उसने कहा कि 14 सितंबर को रिश्तेदारों के जरिए फोन से उसे सूचना मिलेगी सुमन की मृत्यु हो गई है। जब उसने सुमन के पति प्रेमचंद को फोन लगाया तो उनका कोई जवाब नहीं मिला। जब उन्होंने झूसी में पता किया तो उन्हें पता चला कि 13 सितम्बर को ही यह घटना हो गयी थी। उसी रात प्रेमचंद्र शव लेकर अपने पैतृक गांव सलामतपुर थाना महाराजगंज जनपद जौनपुर चला आया था। जहां आनन-फानन में घाट पर ले जाकर उसने दाह संस्कार कर दिया। इस दौरान उसने मायके पक्ष को किसी भी तरह की जानकारी नहीं दी।

पीड़ित परिवार का आरोप है कि आरोपी के घर के सदस्यों ने दोनों बच्चों को भी बंधक बना लिया है।
पीड़ित परिवार का आरोप है कि आरोपी के घर के सदस्यों ने दोनों बच्चों को भी बंधक बना लिया है।

बच्चों को बनाया है बंधक

पीड़ित परिवार का आरोप है कि आरोपी के घर के सदस्यों ने दोनों बच्चों को भी बंधक बना लिया है। उनका कहना है कि बच्चे इस मामले में जरूर कुछ ना कुछ जानते होंगे। इस वजह से बच्चों से मिलने नहीं दिया जा रहा है। आरोपी पति भी घटना के बाद से फरार चल रहा है। उनका कहना है कि बच्चे आरोपी पिता के साथ पैतृक गांव आए हुए थे।

16 सितंबर को जब पीड़ित परिवार के सदस्य आरोपी के पैतृक गांव गए तो अंदर से ताला बंद था। इस दौरान उन्हें बच्चों के रोने की आवाज घर के अंदर से सुनाई दी। उन लोगों ने घटना की सूचना स्थानीय पुलिस और डायल 112 को दी। पुलिस मौके पर आई। लेकिन सिर्फ खिड़की के अंदर से ही पुलिस ने दोनों बच्चों को पीड़ित परिजनों को दिखाया।

फरार पति को लेकर पीड़ितों ने पुलिस अधीक्षक अजय साहनी से मुलाकात की है।
फरार पति को लेकर पीड़ितों ने पुलिस अधीक्षक अजय साहनी से मुलाकात की है।

क्या बोले पुलिस अधीक्षक अजय साहनी?

पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने बताया कि महाराजगंज से परिवार आकर उनसे मिला और उस शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि परिजनों का कहना है कि उनकी बेटी की शादी प्रयागराज में हुई थी। परिवार का आरोप है कि ससुराल वालों ने उनकी बेटी की हत्या कर दी है। इसमें प्रयागराज के झूसी थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि परिवार वालों का कहना है कि मृतका के बच्चे आरोपी के परिवार में हैं। इस संबंध में प्रयागराज पुलिस से भी संपर्क किया जा रहा है और मामले में आवश्यक विधिक कार्रवाई की जा रही है।

खबरें और भी हैं...