• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jaunpur
  • Inspector Suspended In Jaunpur Wrestler Murder Case : After The Murder, The Riotous Mob Did Arson sabotage, Broke The Car For 3 Km, Set Fire To The Ambulance

जौनपुर के पहलवान हत्याकांड में दरोगा निलंबित:हत्या के बाद उपद्रवी भीड़ ने की थी आगजनी-तोड़फोड़, 3 किलोमीटर तक तोड़ी गाड़ियां; एंबुलेंस में लगाई आग

जौनपुर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जौनपुर के गौराबादशाहपुर थाना अंतर्गत धर्मापुर बाजार में दबंग बदमाशों ने चाकू मारकर पहलवान को मौत के घाट उतार दिया। वहीं उसके दूसरे साथी की पीठ पर 7 जगह चाकू से वार किया। उसकी हालत भी नाजुक बनी हुई है। पहलवान की हत्या से आक्रोशित होकर ग्रामीणों ने आगजनी और तोड़फोड़ की थी। पुलिस अधीक्षक ने इस मामले में लापरवाही बरतने पर गौराबादशाहपुर के थानाध्यक्ष अवधनाथ यादव को निलंबित कर दिया है।

जमकर हुआ था उपद्रव
शुक्रवार की देर शाम पहलवान की हत्या के बाद जमकर उपद्रव हुआ। उपद्रवी भीड़ ने 3 किलोमीटर तक गाड़ियों में तोड़फोड़ की। एम्बुलेंस को भी आग के हवाले कर दिया। भीड़ द्वारा की गई पत्थरबाजी में पुलिसकर्मी भी घायल हुए। कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह भीड़ पर काबू पाया गया। पुलिस ने हत्या के मामले में नामजद तीन आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया है।

पहले भी घटना कर चुका है आरोपी
8 अप्रैल को समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चोरसंड के अधीक्षक ने गौराबादशाहपुर थाना प्रभारी को तहरीर दी गयी थी। तहरीर में आरोप था कि सघन मिशन इंद्रधनुष टीकाकरण कार्यक्रम के लिए राज मिश्रा वैक्सिन लेकर जा रहे थे। चोरसंड गांव के पास गोलू राय अपने तीन चार साथियों के साथ खड़ा था। इन लोगों द्वारा राज मिश्रा की बाइक रोक ली गई। इसके बाद अज्ञात स्थान पर ले जाकर उसके साथ मारपीट की गई। राज मिश्रा का इलाज भी समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोरसंड में होने की बात कही गयी।

सरकारी काम में पहुंचाई थी बाधा
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक का आरोप था कि गोलू राय और अन्य लोगों की वजह से टीकाकरण का कार्यक्रम प्रभावित हो गया था। 8 अप्रैल को यह कार्यक्रम नहीं हो पाया। उन्होंने तहरीर में बताया कि ये उत्तर प्रदेश सरकार की प्राथमिकता का कार्यक्रम है। इसकी मॉनिटरिंग स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा की जाती है। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने मांग की थी कि इस मामले में सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान पहुंचाने के मामले में आरोपियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।

पुलिस का ढुलमुल रवैया
पुलिस ने इस मामले में राज मिश्रा को खुद F.I.R करने के लिए कहा। लेकिन राज मिश्रा आरोपियों के कारण दहशत में था। इस संबंध में पीड़ित के पिता ने थाने में तहरीर दी। पुलिस द्वारा इस मामले में लापरवाही बरती गई। पुलिस अगर शिवम राय उर्फ गोलू को दबिश देकर गिरफ्तार कर लेती तो ये दुस्साहसिक वारदात होने से बच जाती।