जौनपुर में केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश पर कसा तंज:बोले- सपा प्रमुख बाबा विश्वनाथ का दर्शन करेंगे या ज्ञानवापी मस्जिद जाएंगे

जौनपुर8 महीने पहले
जौनपुर में केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश पर कसा तंज।

जौनपुर में ‘जन विश्वास यात्रा’ में जनसभा को संबोधित करते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश यादव पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आखिर अखिलेश यादव कब बाबा विश्वनाथ धाम का दर्शन करेंगे। अखिलेश यादव यह भी बताएं कि जब वह बाबा विश्वनाथ धाम जाएंगे तो क्या ज्ञानवापी मस्जिद भी जाएंगे या नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि नकली हिंदू चुनाव तक मंदिर दर्शन करते हैं और फिर गिरगिट की तरह रंग बदल देते हैं।

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि जब वह मथुरा के अंदर कृष्ण जन्म भूमि के विकास की बात करते हैं तो कृष्ण भक्तों और हनुमान भक्तों द्वारा ही तुष्टीकरण शुरू कर दिया जाता है। उन्होंने कहा कि तुष्टीकरण की राजनीति बंद करके अब विकास की राजनीति को अपनाना होगा।

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की जनसभा में आए लोग।
डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की जनसभा में आए लोग।

25 साल तक सिर्फ सपना देखे सपा

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि समाजवादी पार्टी 22 की तैयारी कर रही है, लेकिन वह 2027 के विधानसभा चुनाव में भी वापस नहीं आएगी। यूपी में 25 साल तक अभी वे सिर्फ सपने देख सकते हैं। केशव प्रसाद मौर्य ने सपा को जिन्नावादी और लूट वाली पार्टी बताया। इस दौरान उन्होंने जौनपुर के लोगों को याद दिलाया कि यहां के कई कारसेवकों को अयोध्या में समाजवादी पार्टी की सरकार ने लाठियां मारी थीं। कई कारसेवकों को बलिदान भी देना पड़ा था।

छापेमारी से अखिलेश के पेट में दर्द क्यों?

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने पूरे यूपी में 50 जगहों पर इनकम टैक्स की छापेमारी को लेकर सपा पर हमला बोला। केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सपा यदि छापेमारी का स्वागत करने के बजाय विरोध कर रही है तो निश्चित रूप से ये दिख रहा है कि दाल में कुछ काला है। जांच एजेंसियां अगर छापेमारी नहीं करती तो गरीब कल्याण का पैसा तहखाना में से कैसे निकलता। उन्होंने कहा कि छापेमारी से अखिलेश यादव के पेट में क्यों दर्द हो रहा है? जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि न खाऊंगा और न खाने दूंगा।

'जन विश्वास यात्रा' में आयोजित जनसभा को संबोधित करते डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य।
'जन विश्वास यात्रा' में आयोजित जनसभा को संबोधित करते डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य।

सपा ने नहीं किया छापेमारी का स्वागत

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सपा के शासन में जो भ्रष्टाचार हुआ था, उसका पैसा इन छापेमारी में से निकल रहा है। इसको लेकर अखिलेश यादव का बयान चोर की दाढ़ी में तिनके की तरह है। समाजवादी पार्टी के लोगों ने कहीं से भी छापेमारी का स्वागत नहीं किया है। उल्टे सपा के लोग छापेमारी का विरोध कर रहे हैं। यह भ्रष्टाचार सपा के कार्यकाल में हुआ था, जिसका खुलासा भाजपा के शासनकाल में छापेमारी के दौरान हो रहा है।

अपनी सरकार में पिछड़ा वर्ग के लिए अखिलेश ने क्या किया

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अखिलेश यादव कितने बड़े पिछड़े वर्ग के हितैषी हैं? अगर वह वाकई पिछड़े वर्ग के हितैषी होते तो 2012 से 2017 तक समाजवादी सरकार में पिछड़ों के उत्थान के लिए काम करते। बहुमत होते हुए भी अखिलेश यादव ने पिछड़े वर्ग के लिए कोई काम नहीं किया। पिछड़ों के उत्थान के बजाय यूपी में दंगे होते रहे। महिलाओं और बेटियों के साथ सपा सरकार में लगातार अत्याचार हुआ।

वहीं योगी सरकार में अगड़ा, पिछड़ा और सभी वर्ग भाजपा के साथ हैं। 2022 के आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर कोई भी दल किसी भ्रम में न रहें। जिस तरह से 2017 में भाजपा ने पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी, ठीक उसी तरह 2022 में भी भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है। उन्होंने मंच से दावा किया कि इस बार भी भाजपा 300 से ज्यादा सीटें जीतेगी।