जौनपुर में पूर्वांचल विश्वविद्यालय में प्रदर्शन:छात्रों का आरोप- 30 प्रतिशत से अधिक छात्रों को जनरल मार्किंग पर किया फेल, सही तरीके से नहीं हुआ मूल्यांकन

जौनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जौनपुर में पूर्वांचल विश्ववि� - Dainik Bhaskar
जौनपुर में पूर्वांचल विश्ववि�

जौनपुर जिले में वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में अंकपत्र में अनियमितता को लेकर छात्रों ने जमकर हंगामा किया। विश्वविद्यालय परिसर में कुलपति कार्यालय के सामने बड़ी संख्या में छात्रों ने नारेबाजी की। छात्रों का आरोप है कि वार्षिक परीक्षा में मूल्यांकन सही तरीके से नहीं हुआ है। अनैतिक परीक्षा नियमावली के कारण अधिकतर छात्रों का भविष्य अधर में है। वहीं भारी संख्या में छात्रों का जमावड़ा देखकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने मेन गेट बंद कर दिया है। परिसर में बड़ी संख्या में विश्वविद्यालय सुरक्षा फोर्स भी मौके पर लगा दी गई है।

छात्रों का आरोप- सही तरीक से नहीं हुआ मूल्यांकन

छात्रों का कहना है कि वार्षिक परीक्षा का मूल्यांकन सही तरीके से नहीं हुआ है। विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा कुछ विषयों की ही परीक्षा करवाई गई थी। उन्हीं विषयों के अंक के आधार पर औसत अंक निकालकर समस्त विषयों के अंक प्रदान कर दिए गए थे। इस दौरान प्रायोगिक विषयों के अंक में भी अत्यधिक कटौती कर दी गई। इसके चलते 30% से अधिक छात्र अनुत्तीर्ण हो गए हैं। छात्रों का आरोप है कि ज्यादातर विद्यार्थियों के अंकपत्र भी अपूर्ण हैं। इसके अलावा कुछ छात्रों ने राष्ट्र गौरव और पर्यावरण की परीक्षा दी थी, लेकिन उनके अंकपत्र में भी इन विषयों के सामने अनुत्तीर्ण दर्शा दिया गया है। इस मूल्यांकन को लेकर सभी छात्रों में आक्रोश व्याप्त है।

छात्रों ने किया कुलपति कार्यालय का घेराव

इन सभी मुद्दों को लेकर छात्रों ने विश्वविद्यालय परिसर में कुलपति कार्यालय का घेराव कर दिया है। बड़ी संख्या में छात्रों के घेराव को देखकर विश्वविद्यालय प्रशासन सकते में है। आनन-फानन में विश्वविद्यालय ने अपने मुख्य द्वार को बंद कर दिया है। छात्र कुलपति कार्यालय के बाहर बनी सीढ़ियों पर धरना देकर नारेबाजी कर रहे हैं। विद्यालय प्रशासन ने मौके पर सुरक्षा फोर्स को तैनात कर दिया है। छात्रों की मांग है कि उत्तर पुस्तिका का पुनर्मूल्यांकन किया जाए। इसके अलावा प्रायोगिक विषयों के अंक को दोबारा मंगवाया जाए। उनका कहना है कि यदि विश्वविद्यालय प्रशासन उनकी मांगों को पूरी नहीं करता है तो निश्चित रूप से विश्वविद्यालय में बड़े आंदोलन के लिए बाध्य हैं।

छात्रों के समर्थन में पहुंचा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

विभिन्न मांगों को लेकर विश्वविद्यालय पहुंचे छात्रों के समर्थन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भी पहुंच गया है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कहना है कि छात्रों के भविष्य के साथ विश्वविद्यालय प्रशासन खिलवाड़ कर रहा है। विश्वविद्यालय द्वारा कुछ विषयों की परीक्षाएं कराई गईं और उसी के अंकों के आधार पर सभी विषयों के औसत अंक प्रदान कर दिए गए। कुछ छात्रों का अंकपत्र भी अपूर्ण है। विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा किए गए इस मूल्यांकन से छात्रों का भविष्य अधर में है।

खबरें और भी हैं...