• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jaunpur
  • The Registration Of The Hospital Was Over 116 Days Ago : Searching For A Doctor To Operate, Many Hospitals Running Without Meeting The Standard

116 दिन पहले खत्म हो गया था अस्पताल का पंजीकरण:ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर की तलाश, कई अस्पताल मानक पूरा किए बगैर चल रहे

जौनपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जौनपुर में बुधवार को इसी अस्पताल मेंऑपरेशन के दौरान महिला की मौत हो गयी थी। मौत के बाद डॉक्टर और स्टाफ अस्पताल छोड़ फरार हो गए थे। - Dainik Bhaskar
जौनपुर में बुधवार को इसी अस्पताल मेंऑपरेशन के दौरान महिला की मौत हो गयी थी। मौत के बाद डॉक्टर और स्टाफ अस्पताल छोड़ फरार हो गए थे।

जौनपुर के परमार्थ हॉस्पिटल में बुधवार को ऑपरेशन के दौरान महिला की मौत हुई थी। मौत के प्रकरण में लापरवाही का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि हॉस्पिटल का पंजीकरण 116 दिन पहले ही समाप्त हो गया था। लेकिन जौनपुर के स्वास्थ्य विभाग द्वारा 116 दिन पूर्व समाप्त हुए पंजीकरण के बाद भी चल रहे अस्पताल पर मात्र तालाबंदी की कार्रवाई की गई है। महिला का ऑपरेशन करने वाले चिकित्सक अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।

जौनपुर में कई अस्पताल ऐसे हैं जो मानक पूरा किए बगैर बेधड़क चल रहे हैं। इन अस्पतालों के पंजीकरण के लिए डिग्री किसी और डॉक्टर की लगी हुई है तो वहां ऑपरेशन थिएटर में किसी अन्य डॉक्टर द्वारा ऑपरेशन किया जाता है। वहीं जौनपुर में कई डॉक्टर ऐसे हैं जो ऑपरेशन का सामान अपने बैग में लेकर जौनपुर के कई अस्पतालों में ऑपरेशन करते हैं।

1 मई को समाप्त हुआ पंजीकरण
जौनपुर के लाइन बाजार थाना क्षेत्र के कटघरा इलाके में बुधवार को ऑपरेशन के दौरान काजल पाण्डेय (23) की मौत हो गई थी। काजल को पेट में दर्द की शिकायत थी। स्थानीय डॉक्टर की सलाह पर काजल के परिजन उसे इलाज के लिए परमार्थ हॉस्पिटल में लेकर आए। परिजनों का आरोप है कि बुधवार को ऑपरेशन के दौरान महिला कि मौत हो गई।

हॉस्पिटल के वार्ड में महिला के शव के पास परिजन।
हॉस्पिटल के वार्ड में महिला के शव के पास परिजन।

3 सदस्य कि टीम कर रही जांच
परमार्थ हॉस्पिटल के डॉक्टर और स्टाफ ने परिजनों को बताया कि काजल के हार्ट में दिक्कत है। इसे किसी हार्ट केयर में ले जाएं। परिजन उसे कृष्णा हार्ट केयर में ले गए। डॉक्टर ने परिजनों को बताया कि महिला की मौत कुछ देर पहले हो चुकी है। जब तक परिजन वापस लौट कर उसे परमार्थ हॉस्पिटल पहुंचे तब तक डॉक्टर स्टाफ समेत फरार हो चुका था। CMO ने इस मामले की जांच के लिए 3 सदस्य की टीम का गठन किया है। परमार्थ हॉस्पिटल का पंजीकरण 1 मई को समाप्त हो गया था।

धड़ल्ले से बगैर मानक के चल रहे अस्पताल
ऑपरेशन के दौरान महिला की मौत के बाद से सीएमओ ने अस्पतालों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई करने की बात कही है। लेकिन जौनपुर में धड़ल्ले से मानक को पूरा किए बगैर अस्पतालों का संचालन हो रहा है। कई अस्पताल ऐसे हैं जिनका पंजीकरण पहले ही समाप्त हो चुका है लेकिन रिन्यूअल कराए बगैर अस्पताल अभी भी संचालित हो रहे हैं। एक तरफ स्वास्थ्य महकमा जिले में स्वास्थ सुविधाओं की बेहतरी का दावा करता है। वहीं दूसरी तरफ इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है।

खबरें और भी हैं...