9 पुलिस कर्मियों के खिलाफ अरेस्ट वारंट:जौनपुर में पुलिस कस्टडी में हुई थी युवक की मौत, पूछताछ के नाम पर थाने में बेरहमी से पीटा था; अखिलेश ने की थी CBI जांच की मांग

जौनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक कृष्ण कुमार यादव उर्फ पुजारी की फोटो देखकर विलाप करता परिवार। - Dainik Bhaskar
मृतक कृष्ण कुमार यादव उर्फ पुजारी की फोटो देखकर विलाप करता परिवार।

जौनपुर में पुलिस कस्टडी में हुई कृष्ण कुमार यादव उर्फ पुजारी के मौत के मामले में CJM कोर्ट ने मंगलवार को फरार चल रहे 9 पुलिसकर्मियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। उधर, मृतक के परिवार की आंखें छलक उठी।

बेटे की तस्वीर निहारती मां सत्ता देवी ने कहा कि कलेजे को ठंडक उसी दिन मिलेगी, जब मेरे लाल के हत्यारे पुलिसकर्मियों को सजा मिलेगी। वहीं, मृतक के भाई अजय कुमार यादव ने कहा कि आरोपी पुलिस कर्मियों को जल्द गिरफ्तारी नहीं हुई तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

सांत्वना देने आए थे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, CBI जांच की मांग
कृष्ण कुमार की हिरासत में मौत के बाद पीड़ित परिवार को सांत्वना देने 25 फरवरी को सपा सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी पहुंचे थे। उन्होंने परिवार पार्टी फंड से 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता भी दी थी। इसके साथ ही भरोसा दिलाया था कि इंसाफ की लड़ाई में पार्टी उनके साथ हमेशा खड़ी रहेगी। साथ ही मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी।

छिनैती के केस में ले गए थे पूछताछ को, सुबह आई मौत की खबर
मामला बक्सा थाना क्षेत्र के चक मिर्जापुर इब्राहिमाबाद गांव का है। यहां के निवासी कृष्ण कुमार यादव उर्फ पुजारी को 11 फरवरी 2021 को छिनैती के केस में पुलिस और SOG की टीम पूछताछ के नाम पर घर से हिरासत में ले गई थी।

परिजनों का आरोप था कि थाने ले जाकर कृष्ण कुमार को पुलिस वालों ने बेरहमी से पीटा। फिर रात 12 बजे के आस पास पुलिस वाले उसे घर लेकर आए। वह खड़ा तक नहीं हो पा रहा था। कुछ देर बाद पुलिस वाले दोबारा उसे थाने ले गए। मिलने पहुंचे परिजनों को रोक दिया गया। 12 फरवरी की सुबह परिजनों को कृष्ण कुमार की मौत की खबर मिली। आरोप था कि पुलिस उसका शव जिला अस्पताल में छोड़कर भाग गई थी। घटना के बाद से ही हत्यारोपी पुलिस वाले फरार चल रहे हैं।

मृतक के घर पहुंचकर अखिलेश यादव ने व्यक्त किया था शोक।
मृतक के घर पहुंचकर अखिलेश यादव ने व्यक्त किया था शोक।

ग्रामीणों ने हाईवे जाम कर पुलिस पर किया था पथराव
वहीं, घटना के बाद पुलिस कर्मियों के अस्पताल में शव फेंककर भाग जाने से आक्रोशित ग्रामीणों ने 12 फरवरी को सुबह करीब 6 घंटे तक इब्राहिमाबाद मोड़ पर जौनपुर-रायबरेली हाईवे जाम कर पथराव किया था। इसमें सीओ जितेंद्र दुबे, एसआइ जय सिंह सिर में पत्थर लगने से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। आधा दर्जन अन्य पुलिसकर्मी चोटिल हुए थे।

इनके खिलाफ जारी हुआ वारंट
बक्सा के तत्कालीन SO अजय कुमार सिंह, SOG प्रभारी पर्व कुमार सिंह, कॉन्स्टेबल जयशील तिवारी, कॉन्स्टेबल कमल बिहारी बिंद, जितेंद्र सिंह,राज कुमार वर्मा, श्वेत प्रकाश सिंह, राजेंद्र सिंह और अंगद प्रसाद चौधरी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी।

खबरें और भी हैं...