पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बांदा में मौत:27 साल के युवक का शव नदी में उतराता मिला, मां बोली- खदान संचालकों ने बेटे की हत्या कर फेंका

बांदा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक की मां ने खदान संचालकों पर उसके बेटे को मजदूरी न व उसकी हत्या कर शव नदी में फेंकने का आरोप लगाया। - Dainik Bhaskar
मृतक की मां ने खदान संचालकों पर उसके बेटे को मजदूरी न व उसकी हत्या कर शव नदी में फेंकने का आरोप लगाया।

उत्तर प्रदेश के बांदा में एक खदान मजदूर की मौत का मामला सामने आया है। मृतक की मां ने खदान संचालकों पर उसके बेटे की हत्या का आरोप लगाया। वहीं, पुलिस ने डूबने से मौत की वजह बताई है। पुलिस ने मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। उधर, मृतक के भाई ने कहा कि मेरा भाई तैराक था, डूबने से उसकी मौत नहीं हो सकती।

खदान में काम करने के लिए घर से निकला, नदी में मिली लाश
मामला बांदा के जसपुरा थाना क्षेत्र के बरेहटा गांव का है। यहां के निवासी रामलखन(27) बुधवार की शाम को अपने घर से निकला। वह यह बताकर निकला था कि वह पैलानी थाना क्षेत्र के अमलोर खदान में काम करने जा रहा है। मगर युवक गुरुवार की शाम तक भी घर वापस नहीं लौटा। तब परिजन उसकी तलाश में निकले। बरेहटा गांव की केन नदी में युवक का शव उतराता मिला। परिजनों ने जसपुरा पुलिस को सूचना दी। हालांकि, जब तक पुलिस प्रशासन पहुंचा तब तक घरवाले और ग्रामीण शव को नाव में रखकर खदान लेकर पहुंचे।

खदान संचालकों पर हत्या का आरोप, पुलिस बनी मूकदर्शक
मृतक की मां ने खदान संचालकों पर उसके बेटे को मजदूरी न व उसकी हत्या कर शव नदी में फेंकने का आरोप लगाया। मां के अलावा युवक के परिवार में उसकी पत्नी और 3 साल की बेटी है। हालांकि, पुलिस ने अबतक इस मामले में खदान संचालकों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया है।

मृतक का भाई बोला - तैराक था मेरा भाई, डूब नहीं सकता
घटना की सूचना मिलने पर पैलानी के एसडीएम रामकुमार व सीओ सदर सत्य प्रकाश शर्मा मौके पर पुलिस बल के साथ पहुंचे। मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए बांदा भेजा गया। सीओ सदर सत्य प्रकाश शर्मा ने बताया कि युवक की मौत नदी पार करते समय डूबने से हुई है। उधर, मृतक के छोटे भाई गीताराम ने बताया कि मेरा भाई तैराक था और उसकी डूबने से मौत नहीं हो सकती है।