झांसी में 14 गांवों में गिरे ओले:3 दिन और हल्की बारिश का अनुमान; किसान नेता बोले- 22 से 25 प्रतिशत फसल बर्बाद

झांसी9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झांसी में बुधवार रात को अचानक मौसम बदल गया और तेज बारिश शुरू हो गई। - Dainik Bhaskar
झांसी में बुधवार रात को अचानक मौसम बदल गया और तेज बारिश शुरू हो गई।

झांसी में बुधवार रात शुरू हुई हल्की बारिश गुरुवार को दिनभर रुक-रुक कर होती रही। इस बीच 14 गांवों में ओले भी गिरे, जिससे फसलें चौपट हो गईं। सबसे ज्यादा नुकसान फूल पर आ चुकी फसलों को हुआ है। हल्की बारिश से किसान खुश थे, लेकिन जिन गांवों में ओले गिरे, वहां के किसान मायूस है। किसान नेता ने कहा कि ओले के कारण 22 से 25 प्रतिशत फसलें बर्बाद हो गई।
3 दिन और है बारिश होने का अनुमान
वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक डॉ. मुकेश चंद्र ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने के कारण मौसम में अचानक बदलाव आया है। शुक्रवार, शनिवार और रविवार को भी बादल छाए रहेंगे। हल्की बारिश होने का अनुमान है। शुक्रवार को बारिश की ज्यादा संभावना है। आला के कारण फसलों को नुकसान हुआ है। क्योंकि ओला पौधे को गला देता है।

इन गांवों में गिरे हैं ओले

गुरुवार को बारिश के साथ कई गांवों में ओले गिरे।
गुरुवार को बारिश के साथ कई गांवों में ओले गिरे।

बबीना, मऊरानीपुर और बरुआसागर ब्लॉक के कई गांवों में ओले गिरे हैं। बबीना ब्लॉक के हीरापुर, बेजपुर, मनकुआ, नयाखेड़ा, पुरा, कोटी, खाड़ी, बघोरा, सुजालपुरा, गुवावली, ठकुरपुरा, रसीना, सिमिरिया, सुकूबा, मऊरानीपुर के बड़ागांव शरारा और बरुआसागर समेत अन्य गांवों में ओले गिरने से फसलें बर्बाद हो गई।
25 प्रतिशत तक फसलों को नुकसान
किसान रक्षा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष गोरी शंकर बिदुआ ने कहा कि बबीना, मऊरानीपुर समेत अन्य गांवों में ओले गिरने से फसलें चौपट हो गई। ओले के कारण 22 से 25 प्रतिशत फसलों को नुकसान हुआ है। जिन फसलों में फूल आ गया था, उसको सबसे ज्यादा नुकसान है। जिसमें मटर, चना व सरसों को सबसे ज्यादा नुकसान है।
बादल खुलने पर पड़ेगी कड़ाके की ठंड

बुधवार रात को बारिश होने के बाद अलसुबह फिर से हल्की बारिश हुई।
बुधवार रात को बारिश होने के बाद अलसुबह फिर से हल्की बारिश हुई।

मौसम वैज्ञानिक का कहना है कि दो-दिन दिन बादल होने के कारण तापमान सामान्य रहेगा। न्यूनतम तापमान 14 से 15 और अधिकतम तापमान 22 से 23 रहने का अनुमान है। बादल छटने के बाद झांसी में कड़ाके की ठंड दस्तक देगी। मंगलवार तक न्यूनतम तापमान 8 डिग्री तक पहुंच जाएगा।
झांसी में सबसे ज्यादा होती है गेहूं की खेती

बुधवार रात को झांसी में बारिश हुई। बस स्टैंड के पास का नजारा।
बुधवार रात को झांसी में बारिश हुई। बस स्टैंड के पास का नजारा।

जिला कृषि अधिकारी केके सिंह ने बताया कि झांसी में सबसे ज्यादा गेहूं की फसल होती है। इस बार एक लाख 54 हजार 70 हेक्टेयर में गेहूं की बुवाई हुई है। जबकि मटर 85520 हेक्टेयर और चना की 62075 हेक्टेयर में है। हल्की बारिश से सभी फसलों को फायदा है।

खबरें और भी हैं...