• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • 9 Patients Of Dengue Attack At Corona Free Jhansi; Larvae Found In 396 Houses, Dengue Patients Increased, Water Logging Due To Intermittent Rain

झांसी में बड़ा डेंगू का खतरा:कोरोना फ्री झांसी पर डेंगू का अटैक मरीजों की संख्या हुई 9 ; सर्वे में 396 घरों में मिला लार्वा, जलजमाव बना बड़ा कारण

झांसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शुक्रवार को झांसी के महाराणा प्रताप नगर निवासी एक लैब टेक्नीशियन  महिला की डेंगू रिपोर्ट पॉजिटिव आई - Dainik Bhaskar
शुक्रवार को झांसी के महाराणा प्रताप नगर निवासी एक लैब टेक्नीशियन महिला की डेंगू रिपोर्ट पॉजिटिव आई

झांसी मंडल में डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। गुरुवार को झांसी करोना फ्री हो गया था झांसी में अब कोरोना का एक भी केस नहीं है। मगर शुक्रवार को फिर डेंगू एक नया केस सामने आया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घरों का सर्वे किया, जिसमें 396 घरों में लार्वा मिला। जिला मलेरिया अधिकारी ने जानकारी दी कि झांसी मंडल में अगस्त से अभी तक डेंगू के 11 मरीज मिले हैं। जिसमें 9 झांसी और 2 जालौन के मरीजों के सैंपल पॉजिटिव पाए गए। जिन घरों में लार्वा पाया गया उन लोगों को महामारी एक्ट की धारा 188 के अंतर्गत नोटिस दिया गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम लार्वा नष्ट करने, कीटनाशक दवाइयों के छिड़काव के साथ पानी जमा न होने देने की सलाह भी दे रही है।

शुक्रवार को मिला एक और नया मरीज

जिला मलेरिया अधिकारी आर.के गुप्ता ने बताया कि शुक्रवार महाराणा प्रताप नगर निवासी एक लैब टेक्नीशियन 22 वर्षीय महिला युवक की एलाइजर रिपोर्ट में पॉजिटिव आई है ,इसके आलावा बृहस्पतिवार को तिलयानी बजरिया का 38 साल का युवक, पंचवटी कॉलोनी के पास 36 वर्षीय युवती में डेंगू की पुष्टि हो गई है। युवक का इलाज मेडिकल कॉलेज में चल रहा है। उसका इलाज शुरू कर दिया गया है। और उसके घर के आसपास लार्विसाइड का छिड़काव करवाया गया इसके अलावा संगम विहार, गुमनावारा, छनियापुरा में पॉजिटिव पाए गए मरीजों के घरों के आस-पास भी छिड़काव किया गया।

डेंगू के लक्षण

डेंगू बुखार के लक्षण दो से सात दिन में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द तथा आंखों के आसपास दर्द हो सकता है। गंभीर अवस्था में नाक, मसूड़ों, पेट या आंत से खून का रिसाव भी हो सकता है। एक से पांच दिन तक बुखार होने पर तथा पांच दिन से अधिक का बुखार होने पर मेक-एलाइजा (आइजीएम) कीट से जांच की जाती है। डेंगू से बचाव के लिए मच्छर पैदा होने से रोककर, मच्छरों से काटने से बचाव के उपाय किए जाना चाहिए। डेंगू छोटे बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवतियों को अधिक प्रभावित करता है।

खबरें और भी हैं...