पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • Arms Found In Two Bags Found In Telangana Express Were Doing Security Guard's Job By Keeping A License Gun Without The Security Guard Coming Out, Jhansi GRP Caught

झांसी में ट्रेन में मिले हथियार का मामला:तेलंगाना एक्सप्रेस में मिले दो बैग से मिले असलहे सिक्योरिटी गार्ड के निकले बिना लाइसेंस बंदूक रखकर कर रहे थे सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी, झाँसी जीआरपी ने पकड़ा

झांसी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जीआरपी टीम ने 12 सितंबर की सुबह लुधियाना से तीन आरोपियों को पकड़ लिया। - Dainik Bhaskar
जीआरपी टीम ने 12 सितंबर की सुबह लुधियाना से तीन आरोपियों को पकड़ लिया।

झांसी । तेलंगाना एक्सप्रेस के जनरल कोच में मिले असलहे सिक्योरिटी गार्ड के निकले हैं। इस मामले में जीआरपी पुलिस ने जम्मू के राजौरी में रहने वाले तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास बिना लाइसेंस की बंदूक थी। यह लोग केरल में पकड़े जा रहे सिक्योरिटी गार्डों के भय के कारण नौकरी छोड़कर भाग रहे थे। गिरफ्तार किए गए तीनों युवकों को अदालत में पेश किया। वहां से उनको जेल भेजा गया । पुलिस अधीक्षक (रेलवे) मोहम्मद इमरान ने जानकारी देते हुए बताया है कि 10 सितंबर 2021 को ट्रेन नंबर 02723 तेलंगाना एक्सप्रेस के जनरल कोच से आरपीएफ टीम ने दो बैग बरामद कर जीआरपी के हवाले किए थे। इन बैगों में पांच एसबीबीएल गन व 23 कारतूस मिले थे। इस आधार पर जीआरपी थाना में दो नामजद आदि के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया था। इस घटना को गंभीरता से लेते हुए एडीजी रेलवे के निर्देशन, पुलिस महानिरीक्षक रेलवे प्रयागराज/लखनऊ, डीआईजी रेलवे के निर्देशन में टीम गठित की गई थी। इसके अलावा जनरल कोच में बैठे रेलयात्रियों से उक्त बैगों के मामले में पूछताछ की मगर किसी ने जवाब नहीं दिया था। सूचना मिली कि उक्त कोच में तीन युवक बैठे हुए थे। इन्हीं युवकों को उक्त बैग थे। इस आधार पर टीम को उक्त युवकों को पकड़ने के लिए रवाना किया। टीम को उक्त युवकों का लुकेशन लुधियाना रेलवे स्टेशन मिला तो टीम ने जाकर उन तीन युवकों को पकड़ लिया। तीनों युवकों को लुधियाना अदालत में पेश कर झाँसी लाया गया। हैदराबाद की एक सिक्योरिटी कंपनी में करते थे गार्ड की नौकरी.

एसपी रेलवे के मुताबिक पूछताछ के दौरान अभियुक्तों ने बताया कि वह हैदराबाद की एक सिक्योरिटी कंपनी में सशस्त्र गार्ड की नौकरी करते हैं। इन सभी ने अपने शस्त्र लाइसेंस जिला राजौरी जम्मू-कश्मीर से विभिन्न व्यक्तियों के माध्यम से बनवाए हैं। हाल में उनकी जानकारी में आया कि केरल राज्य की पुलिस द्वारा कुछ सिक्योरिटी गार्ड के शस्त्र लाइसेंस फर्जी पाए जाने पर उन्हें गिरफ्तार किया गया है। इन व्यक्तियों को यह भय हुआ कि हमारे शस्त्र लाइसेंस भी सही हैं अथवा नहीं तथा इनका ऑनलाइन पंजीकरण भी नहीं कराया गया। इन्होंने हैदराबाद में इसी संशय में इन सभी ने अपनी कंपनी से छुट्टी ली और अपने लाइसेंस तथा शस्त्र के साथ राजौरी वापस जाने की योजना बनाई थी। इनके दो अन्य साथी ने भी अपने शस्त्र इन्हें साथ लाने को कहा जो पहले राजौरी जा चुके थे इनमें से एक के शस्त्र लाइसेंस की वैधता मई 2021 में समाप्त हो चुकी तथा दूसरे की लाइसेंस की वैधता की जानकारी की जा रही है।

इस घटना को गंभीरता से लेते हुए एडीजी रेलवे के निर्देशन, पुलिस महानिरीक्षक रेलवे प्रयागराज/लखनऊ, डीआईजी रेलवे के निर्देशन में टीम गठित की गई थी
इस घटना को गंभीरता से लेते हुए एडीजी रेलवे के निर्देशन, पुलिस महानिरीक्षक रेलवे प्रयागराज/लखनऊ, डीआईजी रेलवे के निर्देशन में टीम गठित की गई थी

एक अभियुक्त माजिद पर राजौरी में है मुकदमा

शस्त्र लाइसेंस के सत्यापन की कार्यवाही जिला प्रशासन राजौरी के माध्यम से करायी जा रही है। अब तक जानकारी के अनुसार एक नामजद अभियुक्त माजिद के खिलाफ 2005 में 341,452,382 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज है। पुलिस प्रशासन राजौरी के मध्यम से इनके आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

इनको किया गिरफ्तार

जम्मू कश्मीर के जिला राजौरी के थाना धर्मशाल ग्राम बरहवी निवासी मोहम्मद रफी, संजय कुमार व संजय का जीजा यशपाल शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। यशपाल शर्मा व संजय कुमार के शस्त्र लाइसेंस भी बरामद किए है।

इस टीम को मिली है सफलता

जीआरपी थाना के निरीक्षक चंद्रभूषण यादव, उपनिरीक्षक संदीप कुमार, मुख्य आरक्षी रमेश शुक्ला, मुख्य आरक्षी मनोज कुमार, प्रमोद कुमार, आरक्षी मनोज कुमार, दीपक कुमार व आलोक यादव शामिल रहे हैँ।

खबरें और भी हैं...