झांसी में जल गया गरीब विधवा का कच्चा अशियाना:चूल्हे से कपड़ों में लगी आग, पड़ोसियों ने बचाई विधवा व दो बच्चों की जान

झांसी21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
केशवपुर गांव में आग लगने से कच्चा मकान जल गया। - Dainik Bhaskar
केशवपुर गांव में आग लगने से कच्चा मकान जल गया।

झांसी में एक गरीब विधवा बुजुर्ग महिला का अशियाना आग से जल गया। वह कच्चे मकान में दो बच्चों के साथ सो रही थी, तभी चूल्हे पर कपड़ा गिरने से आग लग गई। देखते ही देखते आग भीषण हो गई। शोर सुनकर पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़कर बुजुर्ग व दोनों बच्चों को बचा लिया।

घटना ग्वालियर रोड पर स्थित केशवपुर गांव में रात करीब 11 बजे हुई। आग से घर का सारा सामान जल गया और एक गाय की भी मौत हो गई। इस घटना के बाद विधवा महिला बेघर हो गई। उसके पास सिर छुपाने को भी जगह नहीं बची।
ठंड की वजह से चूल्हे में थी आग

शांतिदेवी के कच्चे मकान में गुरुवार देर रात आग लग गई। जिससे वह बेघर हो गई।
शांतिदेवी के कच्चे मकान में गुरुवार देर रात आग लग गई। जिससे वह बेघर हो गई।

केशवपुर गांव निवासी शांतिदेवी (62) पत्नी हरप्रसाद केवट कच्चे मकान में रहती है। उन्होंने बताया कि बरसात हाेने की वजह से ठंड ज्यादा थी। इसलिए शाम को चूल्हे पर खाना बनाने के बाद चूल्हे में देर रात तक तापते रहे। फिर 13 साल के पोते कौशल और 10 साल की पोती साधना के साथ सो गए।
देर रात करीब 11 बजे ऊपर टंगे कपड़े चूल्हे पर गिर गए। जिससे कपड़ों में आग लग गई और आग घर के कच्चे छप्पर में गई। तब महिला की आंख खुल गई और वह चिल्लाने लगी। इस पर आसपास के लोग आ गए और दरवाजा तोड़कर महिला व दोनों बच्चों को बचा लिया। बाल्टियां से पानी डालकर आग बुझाई गई।
25 साल पहले हो गई थी पति की मौत
शांतिदेवी के पति हरप्रसाद की करीब 25 साल पहले बीमारी के कारण मौत हो गई थी। उसके दो बेटे शिवचरण व महेश और 3 बेटियां शादीशुदा हैं। दोनों बेटे अलग रहते हैं। शांतिदेवी मजदूरी करके गुजर बसर कर रही थी। ऐसी ठंड में आशियाना तबाह होने से वह सड़क पर आ गई है।

खबरें और भी हैं...