झांसी स्टेशन का नाम बदलने पर सियासत:कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्टेशन पर वीरांगना लक्ष्मीबाई के साथ जबरन झांसी लिखा, पूर्व मंत्री बोले- बड़ा आंदोलन करेंगे

झांसी5 महीने पहले
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रेलवे स्टेशन की शिलापट्‌ट पर वीरांगना लक्ष्मीबाई के साथ पेंट से झांसी भी लिख दिया।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले झांसी स्टेशन का नाम बदलकर वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन करने पर विरोध के बीच सियासत भी गरमाने लगी है। रविवार शाम को पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ता रेलवे स्टेशन पर पहुंचे और प्लेटफार्म नंबर एक की शिलापट्ट पर वीरांगना लक्ष्मीबाई के साथ पेंट से झांसी लिख दिया। कार्यकर्ताओं ने विरोध में नारेबाजी भी की।
इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने मोदी सरकार पर भी निशाना साधा। कहा कि जिस झांसी को अंग्रेज भी महारानी लक्ष्मीबाई से अलग नहीं कर पाए। आज उसको मोदी सरकार ने अलग करने का काम किया है। विरोध में उनको जगाने के लिए करोड़ों लोगों की जनभावनाओं को इस शिलापट्‌ट पर अंकित किया है।
जब तब नाम नहीं जुड़ेगा, जारी रहेगी लड़ाई

झांसी हटाकर रेलवे स्टेशन पर वीरांगना लक्ष्मीबाई के नाम का बोर्ड लगाया गया।
झांसी हटाकर रेलवे स्टेशन पर वीरांगना लक्ष्मीबाई के नाम का बोर्ड लगाया गया।

पूर्व मंत्री ने कहा कि स्टेशन में झांसी शब्द जोड़ने के लिए केंद्र सरकार को संशोधित प्रस्ताव भेजा जाए। जब तक स्टेशन में झांसी शब्द नहीं जुड़ेगा, हमारी लड़ाई जारी रहेगी। इसके लिए बड़ा आंदोदल भी किया जाएगा। झांसी को रानी और रानी को झांसी से अगल नहीं होने दिया जाएगा।

इस मौके पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव राहुल रिछारिया, जिलाध्यक्ष भगवानदास कोरी, नगर अध्यक्ष अरविंद वशिष्ठ, मनीराम, देशराज रिछारिया, शिरोमणी जैन एडवोकेट, अफसर खान, हरजर खान, अमित, शफीक अहमद, युवराज सिंह यादव, गौरव जैन, अंशु भदौरिया, कार्तिक पटेरिया, शाहरुख मंसूरी, मोहम्मद समीर मंसूरी आदि मौजूद थे।
इधर, भाजपा विधायक रवि शर्मा ने रेलमंत्री को पत्र लिखा

भाजपा विधायक रवि शर्मा ने रेलमंत्री को पत्र भेजकर स्टेशन का नाम झांसी वीरांगना लक्ष्मीबाई करने की मांग की है।
भाजपा विधायक रवि शर्मा ने रेलमंत्री को पत्र भेजकर स्टेशन का नाम झांसी वीरांगना लक्ष्मीबाई करने की मांग की है।

भाजपा से सदर विधायक रवि शर्मा ने रेलवे स्टेशन के नाम में झांसी जोड़ने के लिए रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव को पत्र लिखा है। विधायक ने लिखा है कि झांसी में विभिन्न व्यापारी मंडलों, संस्थानों और आम जनमानस द्वारा रेलवे स्टेशन के परिवर्तित नाम वीरांगना लक्ष्मीबाई के आगे झांसी अंकित कराने की मांग की जा रही है। इतिहास के पन्नों में भी महारानी लक्ष्मीबाई के साथ-साथ झांसी जुड़ा हुआ है और झांसी से ही महारानी लक्ष्मीबाई की पहचान है। विधायक ने झांसी के लोगों की भावनाओं को देखते हुए स्टेशन का नाम झांसी वीरांगना लक्ष्मीबाई करने की मांग की है।
व्यापारी संगठन का हस्ताक्षर अभियान जारी

झांसी व्यापार मंडल उत्तर प्रदेश के पदाधिकारी चंद्र शेखर आजाद मानिक चौक पर कैंप लगाया। जहां पर समर्थन में लोगों ने हस्ताक्षर किए।
झांसी व्यापार मंडल उत्तर प्रदेश के पदाधिकारी चंद्र शेखर आजाद मानिक चौक पर कैंप लगाया। जहां पर समर्थन में लोगों ने हस्ताक्षर किए।

रेलवे स्टेशन में झांसी नाम जोड़ने की मांग पर झांसी व्यापार मंडल उत्तर प्रदेश ने शनिवार को हस्ताक्षर अभियान शुरू किया था। रविवार को मंडल के पदाधिकारी चंद्र शेखर आजाद मानिक चौक पर कैंप लगाया गया। जहां पर समर्थन में लोगों ने हस्ताक्षर किए। मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष संतोष साहू व प्रांतीय प्रभारी राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के मानने से नहीं मानेंगे।

जब तक वीरांगना लक्ष्मीबाई के साथ झांसी शब्द नहीं जोड़ा जाएगा, अभियान जारी रहेगा। सोमवार को गुरु नानक देव जी चौक पर कैंप लगाया जाएगा। कैंप में सुजीत अग्रवाल, दीपक साहू, नीरज नाहर, जुगल अग्रवाल, आशुतोष साहनी, मोहन गुप्ता, विजय दशानी, राहुल कंचन, लखन सराफ आदि मौजूद थे।