पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बुंदेलखंड डिग्री कॉलेज का चर्चित गोलीकांड:6 माह पहले दो दोस्त की हत्या की थी मंथन ने मुक़दमे ट्रायल शुरू ; भरी क्लास में क्लासमेट को गोली मारने के बाद लड़की को मार डाला था

झांसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लड़की की हत्या करने के बाद भागते वक्त लोगों ने आरोपी मंथन को पकड़ लिया था और उसकी खंभे से बांधकर पिटाई की थी। - Dainik Bhaskar
लड़की की हत्या करने के बाद भागते वक्त लोगों ने आरोपी मंथन को पकड़ लिया था और उसकी खंभे से बांधकर पिटाई की थी।

झांसी में बुंदेलखंड डिग्री कॉलेज में 4 माह पहले हुए डबल मर्डर केस में आरोपी मंथन सिंह सेंगर को कोर्ट से झटका लगा है। जिला जज की कोर्ट ने मंथन की जमानत नामंजूर कर दी थी. मुकदमा अब ट्रायल आया कोर्ट सभी पक्ष को सुनकर अपना फैसला सुनाएगी। मंथन सिंह ने फरवरी माह में क्लास रूम में पढ़ रहे अपने एक सहपाठी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद एक लड़की के घर पहुंचकर उसे गोली मार दिया था। उस वक्त उसे भागते वक्त भीड़ ने पकड़ लिया था। खंभे से बांधकर पिटाई की थी। तब से वह जेल में बंद है।

जिला शासकीय अधिवक्ता मृदुल कांत श्रीवास्तव के बताया कि डबल मर्डर के आरोपी मंथन सिंह सेंगर पुत्र दिनेश सिंह ने जिजा जज के कोर्ट में जमानत के लिए याचिका दायर की थी। जिसका उन्होंने विरोध करते हुए कहा कि अपराध अत्यंत ही गंभीर प्रकृति का है, जिसमें आवेदक/ अभियुक्त को जमानत पर मुक्त किया जाना न्यायसंगत नहीं है। जिस पर न्यायालय द्वारा उसकी जमानत निरस्त कर दी थी। नवाबाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ 394 पेज का आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कर दिया था। जिला शासकीय अधिवक्ता मृदुल कांत श्रीवास्तव ने बताया कि मुकदमा अब ट्रायल पर आ गया है। न्यायालय में आरोपी के खिलाफ आरोप तय किए जाएंगे। इस मुकदमे में कार्यवाही जल्द आगे बढ़ेगी।

ब्लैक बोर्ड पर दिल बनाया, लिखा था- मंथन फिनिश
दरअसल, मथुरा जिले के थाना शेरगढ़ के जटवारी गांव निवासी हुकुमेंद्र सिंह बुंदेलखंड डिग्री कॉलेज में मनोविज्ञान विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहा था। वह अंतिम वर्ष का छात्र था। 20 फरवरी की दोपहर वह अपने क्लासरूमें बैठकर पढ़ रहा था। उस वक्त क्लासरूम में छह छात्र थे। इसी बीच मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले का रहने वाला छात्र मंथन सिंह सेंगर क्लासरूम में पहुंचा। उसने ब्लैक बोर्ड पर एक दिल बनाया। इसके बाद लिखा कि मंथन फिनिश और छात्रों के पीछे जाकर बैठ गया। कुछ देर बाद उसने तमंचा निकालकर हुकुमेंद्र के सिर में गोली मार दी। इसके बाद मौके से फरार हो गया।

इस वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मंथन कॉलेज से कुछ दूरी पर स्थित मिशन कंपाउंड में रहने वाली छात्रा कृतिका के घर पहुंचा। कृतिका घर के बाहर बैठी थी। आरोपी मंथन ने वहां उसे भी गोली मार दी। मंथन ने भागने की कोशिश की, लेकिन आसपास के लोगों ने उसे पकड़ लिया। गुस्साए लोगों ने रस्सी से हाथ पैर बांधकर उसे जमकर पीटा था। मंथन कृतिका से एकतरफा प्यार करता था। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

हुकुमेंद्र से कृतिका की नजदीकियां बर्दाश्त नहीं थी
पुलिस के अनुसार, कृतिका मंथन और हुकुमेंद्र की दोस्त थी। लेकिन बीते कुछ दिनों से वह हुकुमेंद्र के ज्यादा नजदीक आ गई थी। यह बात मंथन को नागवार गुजर रही थी। उसने दोनों को अलग अलग रहने की हिदायत दी थी। दोनों नहीं माने तो मंथन ने दोनों को गोली मारने के बाद खुदकुशी करने का प्लान बनाया था। लेकिन लोगों ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था। उसकी पिस्टल भी छीन ली थी।

दोनों मृतक के परिजन चाहते है मौत की सजा मिले आरोपी को

हत्याकांड में जान गंवाने वाली कृतिका त्रिवेदी के पिता सुजीत तिवारी चाहते है की आज तक परिवार उस घटना को लेकर दुखी है आरोपी की मौत की सजा मिलनी चाहिये, वही मृतक हुकुमेंद्र सिंह गुर्जर के चाचा है संजय गुर्जर बचपन से ही अपने चाचा के साथ रहा। यहीं उसकी पढ़ाई लिखाई हुई,संजय गुर्जर चाहते है कि हत्यारे को मौत की सजा मिले