पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • Jhansi:People Of Bundelkhand Performed Unique Worship To Please Lord Indradev; Farmers Upset Due To Lack Of Rain, Ground Water Is Depleting Rapidly

झांसी में बारिश के लिए अनोखी आस्था:भगवान इंद्रदेव को खुश करने के लिए लोगों ने 2 किमी तक किया दंडवत, बारिश के ना होने से परेशान हैं किसान; सूख रही फसलें

झांसी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
औसत से कम बारिश होने से नहीं हो पा रही खरीफ की फसलों की बुआई। - Dainik Bhaskar
औसत से कम बारिश होने से नहीं हो पा रही खरीफ की फसलों की बुआई।

बुंदेलखंड में अच्छी बरसात की आस में टोटकों और पूजा की शुरुआत हो चुकी है। झांसी जिले में इंद्रदेव को खुश करने के लिए ग्रामीणों ने अनोखा तरीका निकाला। मऊरानीपुर में इंद्रदेव को खुश करने के लिए गांव के लोग जमीन पर लेटकर दंडवत करते हुए भगवान के दरबार तक गए।

बारिश के लिए लोगों ने की पूजा

झांसी के मऊरानीपुर तहसील क्षेत्र के टकटौली गांव के बुजुर्ग रामकिशोर बताते हैं कि ये वर्षों पुरानी आस्था है, इंद्रदेव को खुश करने के लिए किसान और गांव के लोग ऐसा करते हैं और दो किलोमीटर तक लेटकर गांव के हनुमान मंदिर तक जाते हैं। लोगों का मानना है कि ऐसा करने से भगवान इंद्रदेव शायद प्रसन्न हो जाएं और बुंदेलखंड की धरती पर बारिश कर दें। जिससे पानी की किल्लत से जूझ रहे ग्रामीणों की समस्या दूर हो जाए और किसानों की सूखी फसल फिर से लहलहा उठे। बुंदेलखंड वैसे भी बूंद-बूंद पानी को मोहताज है। ऐसे में यहां के लोग भगवान को खुश करने के लिए अलग-अलग तरीके अपना रहे हैं।

बुंदेलखंड में औसत से काफी कम हुई बारिश

जुलाई झमाझम बारिश का महीना है, लेकिन अब तक ऐसी जोरदार बारिश नहीं हुई जिससे लगे कि मॉनसून सक्रिय हो गया है। इस समय भी लोगों को तेज धूप और प्रचंड उमस का सामना करना पड़ रहा है। पिछले कई दिनों से लोग यहां भीषण गर्मी की चपेट में हैं। एक ओर जहां लोग मौसम की मार से जूझ रहे हैं, वहीं बारिश न होने से खरीफ की बुआई और रोपाई में असर पड़ा है।

मौसम विभाग के अनुसार बुंदेलखंड में सालाना 800 से 900 मिलीमीटर औसत बारिश होनी चाहिए। इस साल झांसी में पिछले 2 माह में 201 मिलीमीटर बरसात हो चुकी है। जिसमें सिर्फ जून में 76 तो जुलाई में 125.5 मिलीमीटर बारिश हुई, जो कि सिर्फ 54 फीसदी है। ऐसे में अगस्त में अच्छी बरसात नहीं हुई तो फसलों बर्बादी तय मानी जा रही है।

खबरें और भी हैं...