पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यूपी में मामा-भांजे की हत्या:जले हुए शवों की जूतों से हुई शिनाख्त; 5 दिन से लापता थे दोनों; परिजन FIR कराने गए थे तो कोतवाली प्रभारी ने दुत्कार कर भगाया

जालौन13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राशिद और नसीम- फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
राशिद और नसीम- फाइल फोटो।

उत्तर प्रदेश के जालौन में मामा-भांजे की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मंगलवार को जंगल में दोनों के जले हुए शव मिले हैं। परिजनों ने कपड़ों और जूतों से शव की शिनाख्त की। दोनों 5 दिन पहले यानी 29 अप्रैल से लापता थे। गुमशुदगी की शिकायत करने परिजन ऊरई कोतवाली गए तो वहां प्रभारी ने उन्हें दुत्कार के भागा दिया। परिजनों ने इस पूरे मामले में पुलिस पर लापरवाही बरतने के गंभीर आरोप लगाए हैं।
परिजनों ने नामजद दी थी तहरीर
यह पूरा मामला उरई कोतवाली के कांशीराम कालोनी का है। यहां रहने वाला 25 साल का राशिद और उसका इंद्रा नगर निवासी मामा नसीम 29 अप्रैल को संदिग्ध हालात में लापता हो गए थे। परिजनों ने दोनों को खोजने का प्रयास किया। लेकिन उनका कहीं पता नहीं लगा। इस पर लापता होने की जानकारी उसके परिजनों ने उरई कोतवाली जाकर दी। साथ ही इंदिरा नगर के रहने वाले रफीक एवं अनीश पर अगवा करने का आरोप लगाते हुई नामजद तहरीर दी।

लेकिन उरई कोतवाली के प्रभारी विनोद पांडेय ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। उल्टा युवकों के लापता होने पर परिजनों पर ही आरोप लगाते हुए उन्हें दुत्कार कर कोतवाली से भगा दिया। इसके बाद व राशिद व नसीम के परिजन उरई कोतवाली और पुलिस के अधिकारियों के चक्कर लगाते रहे पर पुलिस ने सुनवाई नही की।

CM से लगाई गुहार, तब हरकत में आई पुलिस
परेशान परिवार वालों ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर मामले की शिकायत की। जिसके बाद पुलिस एक्टिव हुई और मामले को गंभीरता से लेते हुए नामजद लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। इस दौरान आरोपी टूट गए और उनकी निशान देही पर पुलिस सिरसा कलार क्षेत्र के जंगलों में पहुंची। जहां दो जली हुई लाश बरामद की। जब परिजनों से पुलिस ने जले हुए शवों की शिनाख्त कराई तो वह मामा भांजे के शव निकले। इनकी शिनाख्त जूतों व कपड़े से हो सकी। हालांकि आरोपियों ने हत्या कर शव को जलाया है या नहीं? इसका खुलासा अभी पुलिस ने नहीं किया है। इसके अलावा हत्या के कारणों का भी अभी पता नहीं चला है।

पहले पकड़ पुलिस करती सख्ती तो नहीं जाती जान

इसके बाद से पुलिस पर लापरवाही के आरोप लग रहे हैं। परिजनों का कहना है कि यदि पुलिस ने शिकायत के दिन ही आरोपियों को पकड़ लिया होता, तो उनके भाई और बेटे की हत्या न हुई होती। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने चुप्पी साध रखी है कोई भी पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने से कतरा रहा है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

और पढ़ें